पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विशेष महाराष्ट्रीयन त्‍योहार:महालक्ष्मी को 16 सब्जियों से बने व्यंजनों का भोग लगाकर किए दर्शन

मुलताई2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
महालक्ष्मी जी का शृंगार कर लगाया भोग। - Dainik Bhaskar
महालक्ष्मी जी का शृंगार कर लगाया भोग।

नगर सहित ग्रामीण क्षेत्र में महालक्ष्मी का ढाई दिन का उत्सव का मंगलवार को समापन हुआ। सोमवार को महालक्ष्मी का विशेष शृंगार कर 16 प्रकार की सब्जी से बने व्यंजनों का भोग लगाया गया। क्षेत्र में महाराष्ट्रीयन परिवारों की बाहुलता होने से महालक्ष्मी उत्सापूर्वक मनाया जाता है।

नगर में विजय खन्ना, संजय सावरकर, विलास सावरकर, सौरभ जोशी, प्रभातपट्‌टन के विजय शिवारे, बिरूल बाजार के चेतन जैन, अविनाश जैन, निखिल जैन, मनोज सोनी, मासोद के नामदेव सावरकर, अरूण जगताप, विजय जैन, विजय पाठक सहित अन्य श्रद्धालुओं के निवास पर महालक्ष्मी की स्थापना हुई।

कोरोना के चलते महालक्ष्मी के दर्शन करने वालों की भीड़ कम रही। दर्शन करने आए श्रद्धालुओं ने सोशल डिस्टेंस का पालन किया। सभी जगह अलग-अलग तरह से झांकी सजाई गई। श्रद्धालुओं ने बताया महालक्ष्मी जी का उत्सव ढाई दिन का होता है। रविवार को महालक्ष्मी की स्थापना की गई।

सोमवार को माता का विशेष शृंगार कर मां को प्रसन्न करने के लिए 16 प्रकार की सब्जी के बने पकवान का भोग लगाया। पं. सौरभ जोशी ने बताया महालक्ष्मी का आगमन अनुराधा नक्षत्र में होता है। जेष्ट नक्षत्र में पूजन और भोग लगाया जाता है। माता की ढाई दिनों तक आराधना कर सुख समृद्धि की कामना की जाती है।

खबरें और भी हैं...