24 घंटे बाधा के साथ बिजली:शहर के जाेन-2 में 12 फीडर, फरवरी के 27 दिनाें में 127 बार लाइन ट्रिपिंग

होशंगाबाद8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतिकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
प्रतिकात्मक फोटो
  • कंपनी परमिट लेकर लाइन मेंटेनेंस करती है, लेकिन ट्रिपिंग नहीं राेक पा रही

प्रदेश सरकार का दावा है कि वह 24 घंटे बिना बाधा के साथ बिजली सप्लाई दे रही है। कटौती नहीं हो रही है, लेकिन ट्रिपिंग की बाधा बनी हुई है। बिजली लाइनाें के नियमित मेंटनेंस के दावों के बावजूद शहर का कोई इलाका ऐसा नहीं है, जहां दिन में एक बार ट्रिपिंग ना होती है। शहर के जोन-2 को ही ले लीजिए।

इससे जुड़े 12 फीडर में फरवरी के 27 दिनों में 127 बार ट्रिपिंग हुई है। बिजली कंपनी समय-समय पर परमिट लेकर लाइन मेंटेनेंस करती है, लेकिन ट्रिपिंग नहीं राेक पा रही है। अब कूलर, एसी, पंखे चालू हाेंगे। लाेड और बढ़ जाएगा। शहर में अभी भी कई ऐसे क्षेत्राें में जहां 11 केवी व 33 केवीए बिजली लाइनाें पर पेड़ की डाली टकरा रही हैं। इससे लाइन ट्रिपिंग होती हैं।

अफसरों के पास नहीं पुख्ता जवाब, कहते हैं-कई कारण होते हैं

ज्यादा ट्रिपंग का अफसरों के पास काेई पुख्ता जवाब नहीं है। कह रहे हैं कि कई कारण होते हैं। इसमें वे स्पार्किंग, जंफर जलना, पक्षी और गिलहरी के कारण शार्ट सर्किट,पेड़ की डाली गिरना आदि कारण बताया, लेकिन यह नहीं बता पा रहे हैं कि यही कारण तो सभी जगह होते हैं, फिर ट्रिपिंग होशंगाबाद में ही ज्यादा क्यों हो रही है।

बिजली लाइनाें पर पेड़ की डालियां

पुलिस पेट्राेल पंप के सामने, नेहरु पार्क के पास मैरिज गार्डन के पास, चर्च के पास आदि क्षेत्राें में बिजली की लाइन पर पेड़ की डाली झूल रही हैं। इससे बिजली सप्लाई प्रभावित हो सकती है।

पेड़ की डालियों की छंटनी कराएंगे

शहर में कुछ स्थान पर पेड़ की डाल लाइन के पास आ गई हैं। जिन्हें जल्द ही छंटनी करवाई जाएगी। ट्रिपिंग अलग-अलग कारणों से होती है। हमारा प्रयास है कि ट्रिपिंग नहीं हो।

-दीपक मिश्रा, एई जोन 2

मालाखेड़ी में बार-बार गई बिजली

मालाखेड़ी में शनिवार काे बार-बार बिजली गुल हुई। सुबह के समय बिजली तीन-चार बार गई। डेयरी सब स्टेशन बड़ा हाेने से यहां कहीं भी फाॅल्ट आता है ताे लंबे समय तक लाइट जाती है।

होती है, कहीं भी आ जाता है फाॅल्ट

बिजली जहां पर जनरेट हाेती है, उसे हम 11 केवीए पर अपग्रेड करते हैं। 132, 220, 400,780 केवी ट्रांसलेट करके फेस टू फेस तक लाते हैं। इसके बाद हम उपभाेक्ताओं तक कनेक्शन तक बिजली पहुंचाते हैं। इस जनरेशन से लेकर मीटर तक 100 से 125 इलेक्ट्राॅनिक डिवाइस लगी हाेती है। जाे कभी खराब हाेती है ताे ट्रिपिंग आती है। शहर में जिन क्षेत्राें में ट्रिपिंग आ रही है।

डीपी अहिरवार, चीफ इंजीनियर, आठ जिले के प्रभारी

कहां कितनी ट्रिपिंग

​​​​​​​फीडर ट्रिपिंग
आनंद नगर 4
प्राेफेसर काॅलाेनी 11
सदर बाजार 20
इंटकवेल 11
ग्वालटाेली 13
मालाखेड़ी 19
हाउसिंग बाेर्ड 23
आईटीआई 13
नर्मदा टाउन 00
सेठानी घाट 6
टेलीफाेन एक्सचेंज 4
कलेक्ट्रेट परिसर 3

खबरें और भी हैं...