• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Hoshangabad
  • Bullet Fired Due To Negligence, Security Arrangements Not Already Made Before Carbine Maintenance, Departmental Inquiry Will Be Done

इटारसी RPSF बैरक में लापरवाही से चली गोली:कार्बाइन साफ करते समय जवान ने मैगजीन नहीं निकाली, सुरक्षा इंतजाम में बरती लापरवाही

होशंगाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गोली के छर्रे दीवार पर लगने के निशान। - Dainik Bhaskar
गोली के छर्रे दीवार पर लगने के निशान।

मप्र के सबसे बड़े रेलवे जंक्शन इटारसी में RPSF बैरक में कार्बाइन से गोली लापरवाही बरतने से चली। आरक्षक सुमित राणा ने मेंटेनेंस में सुरक्षा के इंतजाम नहीं बरते थे। जवान ने सफाई करने से पहले कार्बाइन में से गोली से भरी मैगजीन निकालकर नहीं रखी थी। मैगजीन लगे हुए ही वो सफाई कर रहा था। गन का ट्रिगर दब गया। 4 राउंड में गोली जमीन से होते हुए दीवार से टकराई और उसके छर्रे चारों जवानों को लग गए। मामले में पुलिस और RPF दोनों ने जांच शुरू कर दी है। जख्मी हुए RPSF (रेलवे प्रोटेक्शन स्पेशल फोर्स) के जवान टिंकू, सुमित, जगमोहन और राजीव की हालत में सुधार है। चारों को नर्मदा अस्पताल में उन्हें भर्ती रखा गया है।

जमीन पर पड़े मिले छर्रे।
जमीन पर पड़े मिले छर्रे।

बारूद निकालने के बाद होता है मेंटेनेंस

RPF के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक राइफल्स, कार्बाइन, पिस्तौल का मेंटेनेंस साल में एक बार होता है। विशेषज्ञ यह कार्य करते हैं, जिन्हें आरमोरर कहा जाता है। सामान्य मेंटेनेंस की जिम्मेदारी जिसके नाम से हथियार जारी हुआ है, उस व्यक्ति की होती है। मेंटेनेंस से पहले बारूद यानी गोलियां निकाली जाती हैं। इसके बाद ही उसका मेंटेनेंस प्रारंभ होता है। इसके अलावा एक रेत से भरी बाल्टी भी पास रखी होना चाहिए। पिस्तौल, कार्बाइन, पिस्तौल का मुंह उस बाल्टी की ओर होना चाहिए। सूत्र बताते हैं कि इस घटना में ऐसे सुरक्षा के इंतजाम नहीं किए गए।

ट्रेन स्कवॉड और VIP ड्यूटी में उपयोग होती है कार्बाइन

कार्बाइन आधुनिक गन है। यह VIP ड्यूटी और ट्रेन स्कवॉड में अधिकांश उपयोग होती है। इस मैगजीन में 18 से 20 गोली लगती है। इसमें दो फंक्शन है। पहले सिंगल और दूसरा एक साथ सभी गोलियों का। अधिकांश एक्सीडेंटल केस इसी गन से होते हैं। बताते हैं कि यह इतनी खतरनाक होती है कि कार्बाइन जमीन पर गिरने से भी गोली निकल जाती है।

हबीबगंज में कंपनी में चारों जवान

गोली चलने की घटना में जख्मी हुए रेलवे सुरक्षा विशेष बल चारों 15 वीं बटालियन उधमपुर से जुड़े हुए हैं। इनका मुख्यालय दिल्ली होता है। सभी मंडलों में ट्रेन गश्त एवं आरपीएफ की सहायता के लिए जवानों की कंपनी भेजी जाती है। भोपाल मंडल में हबीबगंज में इनकी कंपनी का ऑफिस है। इटारसी में आरपीएसएफ की बैरक में इनकी चैक पोस्ट है। फायरिंग के दौरान आरपीएसएफ के जवान सुमित कुमार राणा, टिंकू, राजीव एवं जगमोहन एक ही कमरे में थे।

इटारसी RPF बैरक में चली गोली:9 एमएम की कार्बाइन में राउंड भरते समय 4 राउंड फायर, छर्रे लगने से 4 जवान घायल

जवान की लापरवाही से हुई घटना

RPF सीनियर डिविजनल सिक्योरिटी कमिश्नर (सीनियर डीएससी) बी रामा कृष्णा ने कहा कि एक्सीडेंटल घटना है। जवान की लापरवाही सामने आई है। लोकल पुलिस जांच जारी है। विभागीय जांच भी मामले में की जा रही है।

खबरें और भी हैं...