पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पानी की बर्बादी:डबल फाटक से पहाड़िया के बीच नहर फूटी, कॉलोनियों में घुसा पानी

हाेशंगाबाद21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
होशंगाबाद। पहाड़िया के पास नहरों से फिजूल पानी बहकर नाले में जा रहा है। - Dainik Bhaskar
होशंगाबाद। पहाड़िया के पास नहरों से फिजूल पानी बहकर नाले में जा रहा है।
  • नालों में बह रहा नहरों का पानी, विभाग नहीं कर रहा निगरानी

शहर के डबल फाटक से पहाड़िया के बीच तवा की माइनर नहर से पानी नालेे में बह रहा है। वहीं मालाखेड़ी के पास जिंदबाबा के पास भी नहर से हजारों क्यूसेक पानी बह रहा है। यह पानी आसपास की कॉलोनी और नालों में मिलकर बर्बाद हो रहा है। इस तरफ जल संसाधन विभाग के मैदानी अमले का कोई ध्यान नहीं है। ऐसी स्थिति शुरू से ही बनी है कई जगह नहरें अभी भी लीकेज हैं। यहां से बहने वाले पानी से नदी-नालों का जलस्तर बढ़ गया है।

जिले में माइनर नहरों की हालत अधिक खराब है। ये नहरें खेतों में ट्रैक्टर चलने और कुलावा को जरूरत से अधिक खोलने के कारण खराब हो रही है। जिस पर न तो किसानों का नियंत्रण है और नही ही विभाग इस तरफ ध्यान दे रहा है। स्थिति धीरे-धीरे बिगड़ रही है। इस मामले में जलसंसाधन विभाग के अधिकारी कुछ भी कहने से इनकार कर रहे हैं।

यहां बर्बाद हो रहा पानी
गौरतलब है कि शहर के मालाखेड़ी जिंदबाबा, होशंगाबाद कुलामड़ी रोड, पहाड़िया, रामनंगर फेफरताल समेत अन्य क्षेत्रों में तवा डेम से निकली नहर के जरिए पानी पहुंचता है। पूर्व में तय मात्रा में पानी ही छोड़ा जा रहा था। किंतु बीते चार दिनों से अधिक पानी छोड़ा जा रहा है। इस वजह से पानी बाहर बर्बाद हो रहा है। कॉलोनियों में रहने वाले रहवासियों ने मांग की है कि निर्धारित मात्रा में ही पानी छोड़ें, ताकि पानी बर्बाद न हो। ऐसा करने से सड़कों पर भी कीचड़
नहीं होगा।

इस तरह बर्बाद होने के कारण टेल क्षेत्र में नहीं पहुंचता पानी
सूत्रों की मानें तो नहरों में तय पानी ही छोड़ने के नियम हैं, ताकि पानी का अपव्यय न हो। इसके विपरीत नहरों में अधिक पानी छोड़ा जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि नहर के सबसे अंत में पड़ने वाले खेतों में कई बार पानी नहीं पहुंचता है। ऐसे खेत मालिक नहर में पानी छोड़ने वाले अमले से सांठगांठ कर लेते हैं और अधिक पानी छुड़वाते हैं। ऐसा करने से पानी का दबाव अधिक होता है और वह अंतिम छोर वाले खेतों तक भी पहुंच जाता है।

नहरें ओवरफ्लो
डेम से नहर में छोड़ा जा रहा पानी शहर के किनारे से काॅलाेनियाें के किनारे नालीयाें में बर्बाद हो रहा है। नहर में जरूरत से ज्यादा पानी छोड़ा जा रहा है। इसलिए नहर ओवरफ्लो हो रही है और पानी सड़कों पर बहते हुए इन्‍हें खराब कर रहा है। बीते चार-पांच दिनों से यह स्थिति है। जल संसाधन विभाग के अमले की अनदेखी की वजह से पानी तो बर्बाद हो ही रहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें