• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Hoshangabad
  • Cows Are Dying Of Hunger And Thirst, The Committee Is Not Getting The Carcasses Of Dead Cows, Video Viral, Outrage Among Villagers

होशंगाबाद में गौमाता की दुर्दशा:नर्मदापुरम की गौशाला में भूख-प्यास से तड़पकर मर गए गाय-बछड़े, शव तक नहीं उठवाए

होशंगाबाद/बनापुरा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिला मुख्यालय से 50 किमी दूर हथनापुर गांव स्थित गौशाला में गायों की सेवा के नाम पर केवल औपचारिकता हो रही है। यहां गौशाला में 6 गाय और 2 बछड़ों ने भूख-प्यास से तड़प-तड़पकर दम तोड़ दिया। यही नहीं, इसके बाद उनके शव तक नहीं उठवाए गए। गौ-सेवों व ग्रामीणों में समिति के प्रति आक्रोश है।

इधर, समिति अध्यक्ष सुजीत गौर का कहना है, मुझे बदनाम करने, अध्यक्ष पद से हटाने के लिए साजिश रची गई। बाहर से लाकर मृत गायें रखवाकर वीडियो बनाया गया है।

बताते हैं कि सिवनी-मालवा तहसील के ग्राम हथनापुर में श्रीदादाजी गौसेवा सदन व जीवदया केंद्र समिति गौशाला का संचालन करती है। जनसहयोग से चंदा कर गौशाला बनाई गई। गाय-बछड़ों के लिए भूसा व कर्मचारियों की सैलरी भी जनसहयोग से आती है। शासन से भी 20 रुपए प्रति गाय के हिसाब से भूसे का भुगतान किया जाता है। कुछ माह पहले ही 2.37 लाख रुपए का शासन से भूसे के लिए भुगतान हुआ।

बावजूद गौशाला में व्यवस्था के नाम पर कुछ नहीं है। न गाय-बछ़डों को समय पर भूसा, पानी मिल रहा न समय पर इलाज किया जा रहा है। इसके अभाव में गायें तड़प-तड़प कर मर रही हैं। इन मृत गायों को परिसर से दो-तीन दिन तक उठाया भी नहीं जा रहा। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। इसके बाद दो दिन पहले समिति ने मृत गायों को उठवाकर जंगल में फिंकवाया।

गौसेवकों व ग्रामीणों में समिति के अध्यक्ष सुजीत गौर व पदाधिकारियों के प्रति गुस्सा है। समिति के पूर्व अध्यक्ष दुर्गाप्रसाद साध ने कहा - वर्तमान समिति सेवा के नाम ढोंग कर रही। सेवा के बजाय गायों की दुर्दशा हो रही।

4 गाय और 2 बछड़ाें की मौत

गौशाला में वर्तमान में 154 गाय व बछड़े हैं। इनमें से 4 गायें और 2 बछड़ों की मौत हुई है। वायरल वीडियो में करीब 10 गायों के मरने व कुत्तों द्वारा खाने की बात भी कही जा रही।

8 माह पहले भी हो चुकी एसडीएम से शिकायत

8 माह पहले भी ग्रामीणों ने सिवनी-मालवा एसडीएम को गौशाला में कीचड़ होने व गंदगी में गायों के रहने के संबंध में समिति के अध्यक्ष की शिकायत की थी। एसडीएम ने तब व्यवस्था में सुधार कराया था। बाद में फिर से उसी तरह से व्यवस्था बिगड़ गई। गायों के मरने की घटना पूर्व में भी हो चुकी है, लेकिन प्रशासन इस विषय को गंभीरता से नहीं ले रहा।

समिति अध्यक्ष बोला- मुझे हटवाने हो रही साजिश

समिति अध्यक्ष सुजीत गौर का कहना है, मुझे समिति के अध्यक्ष पद से हटाने के लिए कुछ लोग साजिश रच रहे। दो-तीन गाय-बछड़ों की मौत हुई है। कुछ मृत गाय के शव को जंगल से लाकर गौशाला परिसर में रख वीडियो बनाया गया। इस काम में गौशाला का करने वाले दो कर्मचारी भी शाामिल हैं। मैंने उन कर्मचारी को हटा दिया है।

खबरें और भी हैं...