पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नया दौर की यादें:दिलीप कुमार ने बुदनी के गडरिया नाले के ऊपर दाैड़ाया था तांगा, शूटिंग के बाद चलाते थे दूधवाले की साइकिल

होशंगाबाद16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बुदनी में आज जहां पशु चिकित्सालय है वहां अंग्रेजों की बैरक में लगा था फिल्म का शामियाना

अभिनेता दिलीप कुमार अब हमारे बीच नहीं रहे पर उनकी यादें बुदनी के जंगल में बसी हैं। 1956 में फिल्म नया दौर की शूटिंग बुदनी के जंगलों में हुई। फिल्म नया दौर अभिनेता दिलीप कुमार, अभिनेत्री वैज्यंती माला की क्लासिक फिल्म थी, जिसे 1957 में रिलीज किया गया था। फिल्म की कहानी मशीन और आदमी के संघर्ष पर आधारित थी। बुदनी के आसपास करीब 8 महीने शूटिंग हुई। फिल्म में दिलीप कुमार ने बुदनी में गडरिया नाले के ऊपर तांगा दाैड़ाया था। उन्हें साइकिल चलाने का शाैक था। फिल्म की शूटिंग के बाद वे दूधवाले की साइकिल चलाते थे।

इटारसी में चुनावी प्रचार करने आ चुके दिलीप

फिल्म जगत के जाने-माने सितारे दिलीप कुमार का इटारसी कनेक्शन रहा है। इंदिरा गांधी ने जब 1977 में चुनाव कराया तब, चौधरी नीतिराज सिंह कांग्रेस प्रत्याशी थे। उनके चुनाव प्रचार में दिलीप कुमार और जॉनी वॉकर इटारसी आए थे। कांग्रेस प्रत्याशी चुनाव नहीं जीत सके थे।

1956 में हुई थी शूटिंग
1956 में जब फिल्म नया दौर की शूटिंग चल रही थी तब बुदनी गांव था। यहां होटल नहीं थे वर्तमान में पशु चिकित्सालय जिस स्थान पर बना है उसी स्थान पर अंग्रेजों की बैरक थी उन्हीं में फिल्म का शामियाना लगाया गया था। एक रेस्ट हाउस था, जिसमें बीआर चोपड़ा और अन्य निर्देशक थे। फिल्म के आउटडोर सीन बुदनी मे फिल्माए गए हैं।

8 माह चली थी शूटिंग
फिल्म की पूरी आउटडोर शूटिंग बुदनी के ग्रामीण इलाकों में हुई थी। शूटिंग देखने के लिए होशंगाबाद और भोपाल से काफी लोग यहां पहुंचते थे। बुदनी में नया दौर की शूटिंग करीब 8 महीने तक चली थी। शूटिंग के लिए करीब आठ माह तक टीम यहां रही। उस दौर के लोग इस बात की पुष्टि करते हैं।

खबरें और भी हैं...