दुआओं का ही सहारा:दवा विक्रेता को 50% इंफेक्शन, सप्लायरों से संपर्क, फिर भी नहीं मिल रहा इंजेक्शन

हाेशंगाबाद8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में रेमडेसिविर का शार्टेज कितना भयावह, इस केस से जानिए

काेराेना के मरीजाें की संख्या बढ़ती जा रही है। लाेगाें काे अब माैत का डर सता रहा और जिले में रेमडेसिविर इंजेक्शन नहीं मिल रहा है। मरीजाें के परिजन रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए परेशान हाे रहे हैं। थोक और फुटकर मेडिकल स्टोर संचालक इस इंजेक्शन का नाम सुनते ही इंकार कर रहे हैं। जिले में इंजेक्शन खत्म हाे गए हैं। जिला स्वास्थ्य विभाग काे भी शासन द्वारा रविवार देर शाम तक रेमडेसीविर इंजेक्शन नहीं मिला है।

एक हफ्ते से भोपाल और इंदौर में भी शार्टेज बना है। बता दें कि बुखार और खांसी के बाद लंग्स का इन्फेक्शन सामने आने पर डॉक्टर मोनोसेफ व एमपीएस के साथ रेमडेसिवीर का इंजेक्शन कारगर मान रहे हैं। डीएचओ डाॅ. नलिनी गाैड़ ने बताया जिले में रेमडेसिविर इंजेक्शन शासन से नहीं मिला है। ऐसे काेई आदेश हमें नहीं मिले हैं जिसमें इंजेक्शन पहुंचाने की बात कही हाे।

मरीजों के परिजन रेमडेसिविर के लिए परेशान

  • मालाखेड़ी निवासी पंकज गाैर काे रेमडेसिवर इंजेक्शन लगना है, लेकिन उनकाे इंजेक्शन नहीं मिल रहा है। वे निजी अस्पताल में भर्ती है। परिजन विवेक गाैर ने बताया कि पंकज काे करीब 50% इंफेक्शन है। वह खुद मेडिकल संचालक हैं। भाेपाल, इंदाैर में मेडिकल सप्लायर्स से भी बात हुई है पर इंजेक्शन नहीं मिल रहा है।
  • इंसाेरेंस कंपनी के प्रशासनिक अधिकारी सदाराम डाेले की पत्नी का अाॅक्सीजन लेवर 88 पहुंच गया। निजी अस्पताल में भर्ती किया। डाॅक्टराें के मुताबिक काेराेना का इंफेक्शन है। डाेले ने बताया परिवार के सदस्यों सहित मित्राें ने शहर के मेडिकल स्टाेर्स, भाेपाल, इंदाैर में रेमडेसिविर इंजेक्शन के बारे में पता लगाया लेकिन नहीं मिला।
  • अधिवक्ता राजेश शकतपुरिया के साथी अधिवक्ता काेराेना पाॅजिटिव थे। उन्हें पहले रेमडेसिविर के 3 डाेज लग चुके थे। 3 डाेज के लिए परिजनाें और उनके मित्राें ने शहर सहित भाेपाल, इंदाैर,नागपुर में मेडिकल स्टाेर्स पर तलाश किया। बहुत ही मुश्किल से रिश्तेदार की मदद से उज्जैन से रेमडेसिविर इंजेक्शन मिला।
  • इटारसी न्यास कॉलोनी के कोरोना पॉजिटिव 49 वर्षीय नीतीश (परिवर्तित नाम) का जिला अस्पताल में भर्ती का पर्चा तो बन गया लेकिन रेमडेसिविर इंजेक्शन स्टोर में नहीं था। भोपाल के एक निजी हॉस्पिटल में जाकर इलाज करवाना पड़ा। रेमडेसिविर का पहला डोज संयोग से मिल गया लेकिन आखिरी डोज नहीं मिल पाया।
  • जिले में रेमडेसिवर इंजेक्शन नहीं है। निजी अस्पतालाें से भी डिमांड आई है। शासन स्तर पर संयुक्त नियंत्रक खाद्य औषधि काे पत्र लिखा है। जैसे ही इंजेक्शन आएंगे जिले में अस्पतालाें काे उपलब्ध कराया जाएगा। - डाॅ. दिनेश काैशल, सीएमएचओ
  • रेमडेसिवर इंजेक्शन के लिए डिमांड की है। जहां से हम लेते हैं वहां भी पता कराया है, लेकिन हमें नहीं मिल रहे हैं। हमारे पास राेज मरीज आ रहे लेकिन उनकाे उपलब्ध नहीं हाे रहे हैं। - ब्रजेश श्रीवास्तव, जिला अध्यक्ष मेडिकल ऐसाेसिएशन

​​​​​​​संक्रमित मरीजों के लिए बना काेविड केयर सेंटर
कोरोना संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए आईटीआई में बालक छात्रावास में काेविड केयर सेंटर तैयार हाे गया है। कलेक्टर धनंजय सिंह ने सेंटर का निरीक्षण किया। उन्हाेंने सीएमएचओ काे निर्देश दिए हैं कि सेंटर में सभी व्यवस्थाएं बेहतर रहें। काेविड केयर सेंटर में 50 बिस्तर की क्षमता रखी है। उन्होंने कहा कि सीसीसी में शुद्ध पेयजल, भोजन, साफ सफाई आदि समुचित व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश आधिकारियों को दिए।

काेराेना से रविवार को 3 माैत

जिले में कोरोनो से मौत का आंकड़ा बढ़ते जा रहा है। रविवार को कोरोनो पॉजिटिव तीन लोगों की मौत हुई। वहीं 65 नए पॉजिटिव मिले। रविवार को पिपरिया निवासी मीडियाकर्मी ओमप्रकाश वर्मा की पत्नी सुषमा वर्मा (38) की मौत पिपरिया में हुई। उनका भाेपाल में चल रहा था दाे दिन पहले ही पिपरिया आई थी। वहीं पिपरिया खेड़ापति माता मठ क्षेत्र निवासी अशाेक पांडे (61) की माैत हाेशंगाबाद में हुई।

दाे दिन पहले अशाेक के पिता एलपी पांडे की माैत काेराेना से हुई थी। उनके परिवार में 29 वर्षीय एक युवक अभी भी पाॅजिटिव है। तीसरी माैत बनखेड़ी निवासी मीडियाकर्मी राजेंद्र शर्मा की मां प्रभादेवी (84) की हाेशंगाबाद के निजी अस्पताल में कार्डियक अरेस्ट से हुई है वे भी काेराेना पाॅजिटिव थीं।

65 नए पाॅजिटिव मिले

रविवार काे 65 लाेग पाॅजिटिव मिले हैं। जानकारी के मुताबिक जिला अस्पताल के एमडी मेडिसिन डाॅ सतीश तिवारी, सेमरी के एक डाॅक्टर की रिपाेर्ट भी पाॅजिटिव आई है। रविवार काे जिले में तीन पाॅजिटिव लाेगाें की माैत हुई है। जिले में अब काेराेना एक्टिव केस की संख्या 322 हाे गई है। पाॅजिटिव का आंकड़ा 4466 पर पहुंच गया है। बुलेटिन में अब भी ऑडिट रिपाेर्ट नहीं आने के कारण माैत का आंकड़ा 63 की बताया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...