पचमढ़ी में न्यू ईयर का जश्न:MP की सबसे ऊंची चोटी पर नया साल कोहरे में, देर रात तक पार्टीज में जमकर थिरके लोग

होशंगाबाद9 महीने पहलेलेखक: धर्मेंद्र दीवान

मध्यप्रदेश का कश्मीर कहे जाने वाले पचमढ़ी में नए साल का जश्न पूरे गर्मजोशी के साथ मना। यहां पहुंचे टूरिस्ट्स ने होटलों में फिल्मी गानों की धुनों पर जमकर डांस किया। इससे पहले साल के आखिरी दिन यानी 31st दिसंबर को प्रदेश की सबसे ऊंची चोटी धूपगढ़ में सन सेट देखने पहुंचे टूरिस्ट को मायूस लौटना पड़ा। यहां दिनभर कोहरा छाया रहा। धुंध के कारण सन सेट नहीं दिखा। नाइट कर्फ्यू और कोरोना के कारण टूरिस्ट भी कम संख्या में पहुंचे थे।

होशंगाबाद जिले के पचमढ़ी का धूपगढ़ प्रदेश की सबसे ऊंची चोटी है। इसकी ऊंचाई करीब 4436 फीट है। यहां से सन सेट का नजारा खूबसूरत दिखाई देता है। 2021 को विदाई देने और नई खुशियों के साथ 2022 को वेलकम करने के लिए शुक्रवार को टूरिस्ट यहां पहुंचे थे।

पचमढ़ी में चंपक नदी पर भी सैलानी पहुंचे।
पचमढ़ी में चंपक नदी पर भी सैलानी पहुंचे।

हालांकि कोरोना का असर यहां भी देखने को मिला। आमतौर पर हर साल न्यू ईयर मनाने और सन सेट देखने के लिए हजारों लोग यहां पहुंचते हैं, लेकिन इस बार कम लोग ही यहां पहुंचे। शुक्रवार को यहां कड़ाके की ठंड रही। घना कोहरा और धुंध होने के कारण लोग साल का आखिरी सूर्यास्त नहीं देख सके। लोगों ने हिल स्टेशन पर आकर मस्ती तो की, लेकिन सन सेट देखने की उत्सुकता लेकर लोगों को मायूस लौटना पड़ा।

सैलानियों ने साल के आखिरी दिन धूपगढ़ की चोटी पर खूब एन्जॉय किया।
सैलानियों ने साल के आखिरी दिन धूपगढ़ की चोटी पर खूब एन्जॉय किया।
रात को पचमढ़ी के होटलों में न्यू ईयर के वेलकम के लिए लोगों ने जमकर डांस किया।
रात को पचमढ़ी के होटलों में न्यू ईयर के वेलकम के लिए लोगों ने जमकर डांस किया।
कोरोना का असर धूपगढ़ में भी देखने को मिला। यहां अन्य सालों की अपेक्षा कम लोग पहुंचे थे। ड्रोन से लिया गया चंपक नदी का खूबसूरत दृश्य।
कोरोना का असर धूपगढ़ में भी देखने को मिला। यहां अन्य सालों की अपेक्षा कम लोग पहुंचे थे। ड्रोन से लिया गया चंपक नदी का खूबसूरत दृश्य।
लोगों ने यहां फोटो भी खिंचवाए।
लोगों ने यहां फोटो भी खिंचवाए।