पचमढ़ी गोलीकांड फॉलोअप:5 साल पहले भी फूलसिंह पर हो चुकी फायर, आर्म्स एक्ट, प्राणघातक हमला का है आरोप

होशंगाबाद8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घायल फूलसिंह के पेट के पास लगी गोली। - Dainik Bhaskar
घायल फूलसिंह के पेट के पास लगी गोली।

मप्र के हिल स्टेशन पचमढ़ी में गोलीकांड में एक नई बात ओर सामने आई है। घायल फूलसिंह कतिया पर 5 साल पहले भी फायर हो चुकी है। मटकुली के पास रिछेड़ा गांव हुई फायर में फूलसिंह जख्मी हुआ था। हमला करने वाले निखिल नोरिया, शिवकुमार नोरिया सहित 4 लोगों पर स्टेशन रोड पिपरिया थाने में अपराध दर्ज हुआ। मामला अभी कोर्ट में विचारधीन है। 5 साल बाद 19 जनवरी की रात को फूलसिंह पर हाईस्कूल ग्राउंड में दोबारा फायर हुई। जिसमें आरोप प्रतीक नोरिया पर लगा है। पुरानी रंजिश के चलते हमला होने की बात कही। लेकिन साल अप्रैल 2017 में फूलसिंह पर हुए हमले से पुलिस इस केस को नहीं जोड़ रही। पुलिस गोलीकांड की वजह व्यवसाय की ओर इशारा कर रही है। घायल फूलसिंह कतिया को चंबक झील पर कैटिंन है। प्रतीक नोरिया व उसके परिजनों की पचमढ़ी के जटाशंकर में दुकान है। टेंडर को लेकर झगड़े होना बताया जा रहा है। फिलहाल पुलिस ने घटना के 4 दिन बाद भी स्थिति स्पष्ट नहीं है। सूत्रों के अनुसार प्रतीक नोरिया सहित संदिग्ध 4 युवकों को पुलिस ने थाने में बैठाकर रखा है। लेकिन अभी तक आरोपी की गिरफ्तारी शो नहीं की है। एसपी डॉक्टर गुरकरन सिंह ने बताया हम मामले की विवेचना कर रहे है। जल्द गोलीकांड का खुलासा करेंगे।

हत्या के प्रयास, आर्म्स एक्ट व मारपीट के है आरोप

एसपी डॉक्टर सिंह बताया प्रतीक नोरिया, घायल फूलसिंह दोनों ही पर अपराध दर्ज है। फूलसिंह पर हत्या के प्रयास, आर्म्स एक्ट, हथगोले फेंकने (विस्फोटक अधिनियम), मारपीट करने के पुराने आरोप है।

घायल फूलसिंह को नहीं आया होश

घायल फूल सिंह कतिया‎ अभी तक होश नहीं आया है। गाेली ‎निकालने के बाद दूसरी बार की सर्जरी के बाद से बेहोश हैं। 20 जनवरी से‎ नर्मदा अस्पताल में इलाजरत है। पेट में गाेली राउंड होकर कूल्हे में‎ जाने से शरीर के कई अंग क्षतिग्रस्त‎ हुए हैं।

हिल स्टेशन पचमढ़ी में गोलीकांड:रंजिश के चलते फुटबॉल ग्राउंड में देर रात चली, युवक के पेट में फंसी गोली निकाली

खबरें और भी हैं...