यूरिया के लिए भटक रहे किसान:सुबह 4 बजे से लाइन में लगे किसान, टोकन मिलने के 6 दिन बाद भी नहीं मिला यूरिया

होशंगाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इटारसी। यूरिया के लिए सुबह 4 बजे से लाइन में लगे किसान। - Dainik Bhaskar
इटारसी। यूरिया के लिए सुबह 4 बजे से लाइन में लगे किसान।
  • सर्दी में रबी फसल की बोबनी के लिए चाहिए यूरिया

किसानों को टोकन मिलने के छह दिन बाद भी यूरिया खाद नहीं मिली। यह समस्या गुरुवार को गांवों से आए किसानों ने बताई। गुरुवार की सुबह 4 बजे से किसान इटारसी में नेशनल हाईवे पर कृषि उपज मंडी के सामने डीएमओ ऑफिस परिसर में यूरिया के टोकन के लिए खड़े थे। यह किसान नंदरवाड़ा, बघवाड़ा, सेमरी, भट्टी,पथरौटा, रैसलपुर, चिल्लई, सोनासांवरी के थे। कई घंटे तक वहां कोई अधिकारी नहीं आए। इसी केंद्र से खाद बांटा जाता है। किसानों ने कहा कि यूरिया पर्याप्त नहीं मिली तो फसल पर असर पड़ेगा। किसान रामबाबू साहू, दीपेश लौवंशी और नंदरवाड़ा के रितेश साहू ने कहा कि किसानों को 7 अक्टूबर को टोकन बांटे गए थे। आज दिनांक तक खाद नहीं मिली। किसान चार दिन से रोज इटारसी आ रहे हैं। सर्दी में रबी फसल की बुआई के लिए किसानों को यूरिया की जरूरत है। लाइन में लगने पर भी कुछ जगह खाद के एक दो बोरे ही मिल पा रहे हैं। सहकारी समितियों में यूरिया की किल्लत से निजी दुकानों में कालाबाजारी हो रही है।

पूरे जिले में यूरिया की कमी, किसान हो रहे परेशान
गौरतलब है कि पूरे जिले में यूरिया की कमी बनी है। सोसाइटी और विपणन संघ की डबल लाॅक गोदाम से एक किसान को एक एकड़ पर दो बोरी यूरिया मिल रहा है। इसमें एक बोरी डीएपी भी है। जरूरत एक एकड़ पर तीन बोरी की है। कलेक्टर नीरज कुमार सिंह के अनुसार अधिकारियों से कहा गया है कि किसानों को खाद आसानी से मिले इसका विशेष ध्यान रखें। कलेक्टर ने किसानों को एनपीके का उपयोग करने की सलाह दी है।

खबरें और भी हैं...