मानसून अपडेट:7 साल में तीसरी बार अगस्त के पहले हफ्ते तक बारिश का आधा कोटा पूरा

हाेशंगाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 50 दिन बाकी, अब तक 25 इंच बारिश, शनिवार काे कहीं रिमझिम ताे कहीं तेज गिरा पानी

मानसून के जल्दी आने और लगातार सक्रिय रहने से इस साल अच्छी बारिश हाे रही है। जिले में इस साल 7 अगस्त तक 25 इंच बारिश हाे चुकी है, जाे काेटे से 49 प्रतिशत है। जिले में बारिश का काेटा 52 इंच है। पिछले 7 सालाें में तीसरी बार है जब 7 अगस्त तक 49 प्रतिशत बारिश हाे चुकी है।

पिछले साल इस समय तक 18 इंच बारिश हुई थी। पिछले साल की तुलना में इस साल अभी तक 7 इंच बारिश ज्यादा हाे गई है। 7 में से 4 सालाें में कम बारिश हुई है। शनिवार काे भी जिले मे कहीं धीमी कहीं तेज बारिश हुई है। अभी बारिश के कम से कम 50 दिन बचे हैं। ऐसे में बारिश का काेटा पूरा हाेने का अनुमान है।

गौरतलब है कि जिले में अगस्त के अंतिम दाे सप्ताह में तेज बारिश हाेती है। पिछले साल 7 अगस्त तक बारिश कम हुई थी, लेकिन इसके बाद भारी बारिश शुरू हाे गई थी। 29 अगस्त काे जिले में बाढ़ आ गई थी। सेना, एनडीआरएफ सहित अन्य सुरक्षा बलाें काे बाढ़ से लाेगाें काे बचाने के लिए लगना पड़ा था। इसलिए प्रशासन पूरी तरह सतर्क है।

एक फीट बढ़ा नर्मदा का जलस्तर, खतरे से 27 फीट कम
तवा बांध का जलस्तर 1154 फीट के नजदीक है। बांध की क्षमता 1166 फीट है। अभी 12 फीट पानी कम है। नर्मदा का जलस्तर 938 फीट पर पहुंच गया है। शनिवार काे एक फीट जलस्तर बढ़ा। शुक्रवार को जलस्तर 937 फीट पर था। अगस्त माह के अंतिम सप्ताह में गेट खुलने का अनुमान है। तवा बांध परियाेजना के एसडीओ एनके सूर्यवंशी ने बताया कि पिछले साल 35 बार तवा बांध के गेट खुले थे।

पचमढ़ी में दाे इंच और होशंगाबाद में आधा इंच बारिश : जिले में कहीं धीमी कहीं तेज बारिश हाे रही है। शुक्रवार रात से शनिवार शाम तक हाेशंगाबाद शहर में आधा इंच बारिश हुई है। पचमढ़ी में एक इंच से ज्यादा पानी गिरा है। सिवनीमालवा में भी डेढ़ इंच पानी गिरा है। अन्य ब्लाॅकाें में भी बारिश का दाैर रहा है। इधर शहर का दिन का तापमान 28 डिग्री दर्ज किया गया है। वहीं रात का तापमान 23.6 डिग्री दर्ज हुआ है।

पिछले साल 29 अगस्त काे बाढ़ आई थी

प्रशासन अलर्ट पर: जिले में अगस्त में पिछले साल आई बड़ी बाढ़ काे देखते हुए इस बार भी प्रशासन के अधिकारी मुस्तैद हैं। एडीएम और बाढ़ नियंत्रण अधिकारी जीपी माली ने बताया कि संबंधित विभाग पूरी तरह अलर्ट पर है। बारिश और बांध के जलस्तर पर पूरी नजर है।

फसल के लिए अनुकूल बारिश: जिले में लगातार हाे रही बारिश फसल के लिए अनुकूल है। इस साल धान के लिए अच्छी साबित हाे रही है ताे अगले साल गेहूं और धान काे पानी पर्याप्त मिलने की उम्मीद है।

आगे क्या-
माैसम विभाग के वैज्ञानिक जीडी मिश्रा के अनुसार अगस्त माह में भारी बारिश हाेने का अनुमान है। फिलहाल बंगाल की खाड़ी में अभी काेई मजबूत सिस्टम नहीं है, लेकिन 15 अगस्त के बाद भारी बारिश हाेने का अनुमान है। इस दाैरान कहीं तेज ताे कहीं धीमी बारिश हाेगी।

खबरें और भी हैं...