होशंगाबाद में रेत पर सियासत:दिग्विजय सिंह का आरोप ; पन्ना रेत घोटाले की बहुचर्चित जोड़ी प्रभारी मंत्री और BJP प्रदेशाध्यक्ष का होशंगाबाद से संबंध, 144 करोड़ रु. का घोटाला

होशंगाबाद4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मप्र के होशंगाबाद जिले में 144 करोड़ रुपए का रेत खनन घोटाला हुआ है। घोटाला ठेका कंपनी द्वारा किया है। मप्र में पन्ना में रेत खनन के बाद दूसरा बड़ा रेत घोटाला होशंगाबाद में हुआ है। यह आरोप मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और राजसभा सदस्य दिग्विजय सिंह ने लगाए है। दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिख 144 करोड़ रुपए के रेत घोटाले की उच्च स्तर पर जांच कराकर पुलिस प्रकरण दर्ज करने की मांग की है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि खनिज मंत्री एवं प्रभारी मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा का होशंगाबाद से नजदीकी रिश्ता है। यह पन्ना खनिज घोटाले की बहुत चर्चित जोड़ी है।

पत्र में लिखा कि मप्र में सबसे महंगी और बड़ी होशंगाबाद की रेत खदानें है। 118 रेत खदानों का ठेका 261 करोड़ रुपए में छत्तीसगढ़ की आरकेटीसी कंपनी को दिया गया था। कंपनी को प्रतिमाह 24 करोड़ रुपए राज्य शासन को जमा कराने थे। शुरुआत में कंपनी ने किस्त जमा नहीं कराई। बाद में कोरोना काल में व्यवसाय न होने का बहाना करती रही। सितंबर 2021 से दिसंबर तक कंपनी ने एक रुपए का भुगतान नहीं किया। 144 करोड़ रुपए का भुगतान राज्य शासन करना था। बावजूद खनिज विभाग ने रेत कंपनी पर कार्रवाई नहीं की। उन्होंने कहा अनुबंध अनुसार एक माह का विलंब होने पर कंपनी से करार खत्म कर नया ठेका हो जाना चाहिए। लेकिन सरकार की उदारता की वजह से कंपनी रेत खदानों से रेत निकालती रही। कंपनी करोड़ों रुपए की रेत चोरी कर बेचती रही। लेकिन जिम्मेदार अधिकारी और शीर्ष राजनेता खामोश रहे।

रेत कंपनी के पास नहीं स्टॉक

दिग्विजय सिंह ने लिखा कि होशंगाबाद जिले में रेत कंपनी के पास स्टॉक में रेत बची नहीं है। कंपनी संग्रहित की गई पूरी रेत बेच चुकी है। संग्रहण के नाम पर एकत्र 4.37लाख क्यूविक मीटर रेत कंपनी की खदानों में स्टॉक बता रही है। कंपनी के पास कुछ हजार क्यूविक मीटर रेत भी नहीं है। खदानों में से अवैध रुप से खनन किया जाकर इतनी बड़ी मात्रा में करोड़ों रुपए की रेत बेची जा रही है।

खबरें और भी हैं...