• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Hoshangabad
  • From December 25 To January 2, All The Hotel Bookings Of MPT In Pachmarhi Madhai, Private Hotels Were Also 80 Percent Full.

क्रिसमस सेलिब्रेशन:25 दिसंबर से 2 जनवरी तक पचमढ़ी-मढ़ई में एमपीटी की सभी होटल बुक, प्राइवेट होटल भी 80 फीसदी हुए फुल

होशंगाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एसटीआर के बफर और कोर जाेन में रोजाना पहुंच रहे 300 से 400 पर्यटक। - Dainik Bhaskar
एसटीआर के बफर और कोर जाेन में रोजाना पहुंच रहे 300 से 400 पर्यटक।

क्रिसमस और नए साल के स्वागत के लिए पचमढ़ी, मढ़ई, चूरना, तवा डैम तैयार हैं। पचमढ़ी के होटल संचालक और इवेंट प्लानर शासन की गाइडलाइन अनुसार प्लान कर रहे हैं। मढ़ई में मप्र के अलावा महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान, कर्नाटक से सैलानी पहुंच रहे हैं। बाघ के अलावा सैलानियों को पैंथर, भालू, बायसन आदि वन्य जीव दिखाई दे रहे हैं।

मप्र टूरिज्म के अधिकारियों ने बताया पचमढ़ी और मढ़ई में मप्र टूरिज्म (एमपीटी) के होटल 25 दिसंबर से दो जनवरी तक पूरी तरह बुक हैं। प्राइवेट होटलों में जरूर 15 से 20 फीसदी बुकिंग की गुंजाइश है। कोविड- 19 के मद्देजनर पर्यटकों की सुरक्षा के विशेष इंतजाम किए हैं।

एसटीआर एसडीओ संदीप महेश्वरी ने बताया कि पर्यटन का रोमांच पहले जैसी स्थिति पर पहुंच रहा है। दिसंबर के अंतिम सप्ताह में पर्यटकों की संख्या दोगुनी होने की उम्मीद है। बिना मास्क एवं थर्मल स्कैनिंग के पर्यटकों को प्रवेश नहीं दिया जा रहा है।

दो से तीन दिन की छुटि्टयाें में घूम सकते हैं एसटीआर

पचमढ़ी- पचमढ़ी में दो या तीन दिन का अवकाश लेकर असानी से घूमा जा सकता है। यहां कोरोना संक्रमण की दर बहुत कम है। साथ ही पर्यटन निगम के और निजी होटल उपलब्ध हैं। सर्द दिनों में पहाड़ियों से सूरज का झांकना अनोखा रोमांच देता है। यहां वन्य प्राणी भी देखे जा सकते हैं। इसी प्रकार मढ़ई भोपाल- पिपिरिया मार्ग पर है। यहां भी एक रात रुककर पिकनिक की जा सकती है।

सोहागपुर- रेंजर सूरसिंह कालबेलिया ने बताया 25 दिसंबर से 5 जनवरी तक के लिए एमपी टूरिज्म के सभी होटल और जिप्सियों की बुकिंग हो चुकी है। अभी एसटीआर के अंतर्गत आने वाले बफर एवं कोर जोन की सभी 20-20 जिप्सी की बुकिंग फुल चल रही है। इसके अलावा नाइट सफारी में भी 15 के करीब जिप्सी की बुकिंग चल रही है। करीब 300 से 400 सैलानी प्रतिदिन मढ़ई पहुंच रहे हैं।

खबरें और भी हैं...