• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Narmadapuram
  • Hoshangabad's Son's 167th Rank, Abhishek Had Paid 22 Marks In The First, Left The Job Of An Officer In ICICI Bangalore And Prepared For UPSC

UPSC रिजल्ट 2020:होशंगाबाद के बेटे की 167वीं रैंक, पहली बार में 22 अंक से चूका था अभिषेक, ICICI बेंगलुरु में ऑफिसर की नौकरी छोड़ की UPSC की तैयारी

होशंगाबादएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अभिषेक खंडेलवाल। - Dainik Bhaskar
अभिषेक खंडेलवाल।

UPSC ने सिविल सर्विसेस 2020 का फाइनल रिजल्ट घोषित किया। होशंगाबाद के सेमरीहरचंद गांव के बेटे अभिषेक खंडेलवाल ने परीक्षा दी। मध्यमवर्गीय परिवार से आने वाले अभिषेक ने देश में 167वां स्थान प्राप्त कर जिले का नाम रोशन किया। 27 वर्षीय अभिषेक खंडेलवाल का यूपीएससी में यह दूसरा प्रयास था। पहले प्रयास में वे 22 अंक से चूक गए थे। दूसरे प्रयास में ऑल इंडिया में 167वीं रैंक लगी। आईआईटी कानपुर से बीटेक, एमटेक करने वाले अभिषेक ICICI बैंक के ऑफिसर की नौकरी छोड़ पिछले दो साल से दिल्ली से यूपीएससी की तैयारी दिल्ली से कर रहे थे। शुक्रवार शाम को रिजल्ट आने की खुशखबरी सबसे पहले अपनी मम्मी-पापा को कॉल कर दी।

कक्षा 10वीं में टॉपर रहे अभिषेक, कोटा से की 12वीं

अभिषेक बचपन से ही होनहार हैं, उनकी प्रारंभिक शिक्षा होशंगाबाद जिले में ही हुई है। अभिषेक की माता बबीता खंडेलवाल, शरद खंडेलवाल ने कहा कक्षा 10 वीं में 93 प्रतिशत अंक के साथ थर्ड रैंक रही थी। आईआईटी की तैयारी के लिए कक्षा 11वीं, 12वीं कोटा से की। कानपुर आईआईटी से बीटेक, एमटेक किया। बेंगलुरु में आईसीआईसीआई बैंक में ऑफिसर बने। करीब एक साल बाद प्रायवेट नौकरी छोड़ यूपीएससी की तैयारी करने का मन बना और वे दिल्ली चले गए। दो वर्ष तक तैयारी करने के दौरान पहले वर्ष की परीक्षा में 22 अंक से चूक गए। दूसरे वर्ष फिर प्रयास किया और पूरे देश में 167 वीं रैंक हासिल की है।

परिजनों ने मिठाई खिलाकर खुशी मनाई।
परिजनों ने मिठाई खिलाकर खुशी मनाई।

संयुक्त एवं मध्यम वर्गीय परिवार से है अभिषेक

UPSC 2020 में 167वीं रैंक हासिल करने वाले होशंगाबाद जिले के सेमरीहरचंद गांव के अभिषेक खंडेलवाल साधारण एवं मध्यम वर्गीय परिवार में से है। गांव के उनका परिवार संयुक्त परिवार की परंपरा को निभा रहा है। घर में अभिषेक, पिता शरद खंडेलवाल, मां बबिता खंडेलवाल, दादा-दादी, चाचा सुनील, सुशील, चाची साथ में रहते है। शरद के पिता कपड़ा व्यवसायी है। छोटा भाई सांकेत खंडेलवाल आईआईटी कानपुर पढ़ाई कर जॉब कर रहे हैं।

करीब एक साल घर नहीं आया बेटा

मां बबीता खंडेलवाल ने कहा बेटा अभिषेक दो साल से दिल्ली से यूपीएससी की तैयारी कर रहा था। पिछले साल अभिषेक गांव आया था। जिसके बाद से अभी तक घर नहीं आया। हमेशा मोबाइल पर बातचीत होती है। शुक्रवार को दिन में ही अभिषेक ने कहा कि आज रिजल्ट आने वाला है। जैसे ही रिजल्ट आया, उसने शाम 6.30 बजे मुझे कॉल कर कहा कि मां मैं पास हो गया। ऑल इंडिया में 167वीं रैंक लगी है। यह सुन खुशी का ठिकाना नहीं रहा। घर में सभी को मैंने बेटे की खुशखबरी सुनाई।

कृषि मंत्री कमल पटेल ने दी बधाई

प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने सोशल मीडिया पर पोस्ट कर बधाई दी है। मंत्री कमल पटेल ने ट्वीट में लिखा है कि आज UPSC 2020 के परिणाम आए है। भोपाल की बेटी जागृति अवस्थी ने देश में दूसरा स्थान हासिल कर हमारा सीना गर्व से चौड़ा कर दिया है, महिला वर्ग में वह प्रथम है। जबलपुर की बेटी अहिंसा जैन ने 53 वां एवं होशंगाबाद के बेटे अभिषेक ने 167 वां स्थान हासिल कर मध्यप्रदेश को गौरवांवित किया है। सभी बच्चें साधारण परिवार से आते हैं। जो कि दूसरे बच्चों के लिए प्रेरणा है, और बहुत खुशी की बात है। हमे प्रदेश के इन बच्चों पर गर्व है, उज्ज्वल भविष्य के लिए मेरी ओर से बहुत शुभकामनाएं।

UPSC-2020 सेकेंड टॉपर, जागृति अवस्थी EXCLUSIVE:पहली कोशिश में 'प्री' में ही अटक गई... हार नहीं मानी, तब समझ आया कि मेहनत तो खूब लगेगी; फिर ऐसे जुटीं कि टॉपर ही बन गईं

खबरें और भी हैं...