सड़क सुुरक्षा समिति के नियम हवा:समय मिलाने की जल्दी में ट्रैफिक थाने के पास खंभे से टकराई तेज रफ्तार बस, 10 यात्री घायल

होशंगाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
होशंगाबाद।  पुलिस पेट्रोल पंप के पास बस हादसे के बाद लगी भीड़। - Dainik Bhaskar
होशंगाबाद। पुलिस पेट्रोल पंप के पास बस हादसे के बाद लगी भीड़।
  • पुलिस जुर्माना वसूलने में व्यस्त, बस चालक टाइम मिलाने के चक्कर में जाेखिम में डाल रहे यात्रियाें की जान

पिपरिया से हाेशंगाबाद आ रही तेज रफ्तार बस मंगलवार रात 8 बजे ट्रैफिक थाने के करीब पुलिस पेट्रोल पंप के गेट के पास लगे बिजली के खंंभे से टकरा गई। हादसा इतना भयानक था कि खंभा पूरा टेढ़ा हो गया और बस में सवार करीब 10 यात्री घायल हो गए। यात्रियाें काे एंबुलेंस से जिला अस्पताल में भर्ती किया गया। यहां उनका उपचार चल रहा है।

ट्रैफिक थाने से मात्र 100 फीट की दूरी पर हुए हादसे के बाद बस चालक बस छाेड़कर भाग गया। काेतवाली टीआई संताेष सिंह चाैहान ने बताया 10 लोग घायल हुए हैं। पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। जिला अस्पताल में सर्जन डाॅ. रवींद्र गंगराडे ने अपनी टीम के साथ घायलाें का उपचार किया।

लहूलुहान यात्रियों को लोगों ने बांधी पट्‌टी

रात करीब 8 बजे हुई घटना के बाद पुलिस पेट्राेल पंप के सामने अफरा-तफरी का माहाैल हाे गया। माैके पर जाम की स्थिति बन गई। दाेनाें तरफ वाहन खड़े हाे गए। पुलिस पहुंची। एंबुलेंस बुलाकर घायलाें काे अस्पताल पहुंचाया। घटना में किसी के हाथ में चाेट लगी ताे किसी के मुंह में और किसी के पैर में चाेटें आई हैं। कई लाेगाें काे कांच के टुकड़े भी लगे हैं।

ड्राइवर तेज चला रहा था बस, बाेला-टाइम मिलाना है

बस बाबई के बाद तेज रफ्तार से चल रही थी। हाेशंगाबाद में एंट्री के बाद ही मैंने और अन्य यात्रियाें ने ड्राइवर से कहा था कि बस धीरे चलाओ, लेकिन वह नहीं माना। हमसे कह रहा था बस समय पर बस स्टैंड पहुंचना है। कुछ यात्रियों काे काेर्ट के पास उतरना था, लेकिन वहां भी बस नहीं राेकी, कहा कि बस रफ्तार से है नहीं रुकेगी। इसके कुछ मिनट बाद ही बस चालक से अनियंत्रित हाे गई और लहराते हुए सीधे खंभे से टकरा गई। यदि बस वहां खंभा नहीं हाेता ताे बस पलट भी सकती थी। बलिराम मेहरा (45), घायल

समय मिलाने की हाेड़

बस की रफ्तार का कारण बस स्टैंड पर जल्दी पहुंचना रहता है। बस चालकाें काे बस का समय मिलना पड़ता है। इसलिए वे तेज गति से बस चलाते हुए लाेगाें की जान खतरे में डाल रहे हैं। भाेपाल राेड पर भी यह नजारा देखा जा सकता है।

स्पीड गन है.. प्रशिक्षित ट्रैफिककर्मी नहीं

ट्रैफिक पुलिस के थाने के सामने से अंधी गति से बसें निकलती हैं, लेकिन कभी कार्रवाई नहीं होती। पुलिस भोपाल तिराहे सहित अन्य स्थानों पर बाइक चालकाें से जुर्माना वसूलने में लगी रहती है। ट्रैफिक पुलिस के पास बसों की रफ्तार नापने स्पीड गन नहीं है। यातायात डीएसपी आरसी गुप्ता ने बताया कि नई मशीन आई है, लेकिन अब अभी उसकी ट्रेनिंग हाेना है। स्टाफ भाेपाल जाकर ट्रेनिंग लेगा।

सड़क संकरी, रफ्तार तेज

नर्मदा कॉलेज से मालाखेड़ी चक्कर रोड, कलेक्टर बंगले के सामने मालाखेड़ी रोड, मीनाक्षी चाैक से डबल फाटक तक सड़कें संकरी है। यहां रिहायशी क्षेत्र से बसें और भारी वाहन तेज रफ्तार से निकलते हैं। इन सड़कों पर बाइक चालक बसाें और भारी वाहनाें के ड्राइवराें के कट से हादसे का शिकार हाेते हैं।

रिहायशी क्षेत्र में दाैड़ रहे भारी वाहन, जांच नहीं

सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में दाे माह पहले तय हुआ था कि बसें धीमी गति से शहर से निकलेंगी। निर्धारित स्थानाें पर ही स्टापेज हाेगा। अभी भी बीच रास्ते ड्राइवर बसें राेककर सवारी बैठाते हैं। चालक रफ्तार से अंधी गति से बसें दाैड़ा रहे हैं। सबसे खास है कि मालाखेड़ी आजाद चाैक बड़ चाैक से कलेक्टर बंगले के सामने से बस सहित अन्य भारी वाहन पहले से प्रतिबंधित हैं लेकिन ऐसा नहीं हाे रहा है।

बस, डंफर, रेत से भरी ट्राॅलियां यहां दाैड़ रही हैं। चाैक पर राेका नहीं जाता है। तेज रफ्तार बसों की जांच तक नहीं की जाती। तहसीलदार शैलेंद्र बड़ाेनिया ने बताया कि बस का रूट आजाद चाैक से चक्कर राेड चाैराहा है। यहां बसाें काे ट्रैफिक द्वारा राेका जाना चाहिए। कल से इसे दिखवाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...