अंडरग्राउंड सीवरेज:पुराने ठेकेदार को नोटिस, नए को मिलेगा काम, तीन साल और लगेंगे

हाेशंगाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सीएम की घोषणा के 8 माह बीते, योजना का काम बंद

नर्मदा मंे मिल रहे नाले के पानी काे राेकने के लिए चल रही अंडरग्राउंड सीवरेज सिस्टम याेजना का काम बंद हाे गया है। एमपीयूडीसी ने तहल कंपनी के ठेकेदार काे टर्मिनेट करने के लिए नाेटिस दे दिया है। अब नए ठेकेदार को काम देने की तैयारी है। इससे 3 साल अतिरिक्त लगेंगे। अभी तक ट्रीटमेंट प्लांट जाने के लिए प्रस्तावित सड़क के लिए जमीन तक अधिग्रहण नहीं हुई है। 2021 फरवरी में नर्मदा जयंती के जलमंच से सीएम शिवराज सिंह चौहान ने संबंधित अधिकारियाें काे फटकार लगाई थी और काम में तेजी लाने के लिए कहा था, लेकिन काम तेजी से हाेने के बजाय बंद हाे गया। एसटीपी पहुंच मार्ग के लिए 3.50 कराेड रुपए नपा के खाते में अा गए हैं। नपा ईई आरसी शुक्ला ने बताया कि यह काम एमपीयूडीसी और संबंधित कंपनी काे करना है। नपा ने अपना काम कर दिया है। जमीन अधिग्रहण की फाइल तैयार है।

यह है याेजना

काेरीघाट, मंगलवारा, करबला, विवेकानंद सहित अन्य जगहाें से नर्मदा में नालाें काे गंदा पानी मिल रहा है। इससे नर्मदा प्रदूषित हाे रही है। नाले का पानी नर्मदा में जाने से राेकने लिए अंडरग्राउंड सीवरेज सिस्टम याेजना शुरू हुई है। जर्मनी की केएफडब्ल्यू ने 200 कराेड़ रुपए दिए हैं। तहल कंपनी काम कर रही है। इस याेजना में शहर में पाइपलाइन डाली जाएगी और घर में कनेक्शन देकर सीवरेज का पानी सीधे ट्रीटमेंट प्लांट ले जाया जाएगा। पानी यहां फिल्टर कर नर्मदा में छाेड़ा जाएगा और खेती के काम में लिया जाएगा। यह याेजना का काम 2018 में शुरू हुआ था।

अभी क्या हैं हाल :

  • मालाखेड़ी क्षेत्र में सड़क खाेदी, अभी तक पूरी तरह ठीक नहीं हुई है। गड्ढे हाे रहे हैं।
  • सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट रसूलिया में प्रस्तावित है, लेकिन वहां जमीन अधिग्रहण नहीं हाेने से काम नहीं हाे पा रहा है। इससे काम रुका।
  • नर्मदा में लगातार नालाें से गंदा पानी मिल रहा है। इससे नर्मदा प्रदूषित हाे रही है।

ठेकेदार काे हटाया जाएगा

एमपीयूडीसी के हाेशंगाबाद प्रभारी आनंद सिंह ने बताया हमने अपनी ओर से जरूरी सुविधाएं दी हैं, लेकिन ठेकेदार काम नहीं कर रहा है। इसलिए उसे हटाया जा रहा है। नए ठेकेदार के आने के बाद फिर काम शुरू हाेगा। बीच में काेराेना के कारण यह काम प्रभावित हुआ है। नए ठेकेदार के आने के बाद गति आने की पूरी उम्मीद है।​​​​​​​

ठेकेदार ने 5% काम किया, इसलिए कार्रवाई

अंडरग्राउंड सीवरेज सिस्टम का काम करने वाले ठेकेदार ने सिर्फ 4 या 5% काम किया है इसलिए उसे टर्मिनेट कर रहे हैं। नया ठेकेदार फिर से काम शुरू करेगा। एसटीपी के लिए जमीन अधिग्रहण का मामला हाईकोर्ट में है। - नीरज कुमार सिंह, कलेक्टर​​​​​​​

खबरें और भी हैं...