मजदूर लौटे / मूंग फसल पकने में एक माह बाकी, किसान को सता रही कटाई की चिंता

X

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 08:14 AM IST

होेशंगाबाद. गेहूं के बाद स्थानीय किसानों ने बड़े पैमाने पर मूंग की फसल लगाई है। फसल की कटाई को लेकर किसान इस समय चिंता में हैं। प्रवासी मजदूर अपने जिलों में वापस चले गए हैं वही हार्वेस्टर स्टॉफ भी पंजाब और हरियाणा जा चुका है। ऐसे में कटाई कैसे होगी यह किसानों के सामने एक बड़ा सवाल बन गया है। 

कृषि विभाग के ग्रामीण विस्तार अधिकारी एसएस कौरव ने बताया कि पिपरिया ब्लॉक में 21 हजार 500 हेक्टेयर में मूंग की फसल लगाई गई है। क्षेत्र में मूंग की बोनी लेट हुई है और लगभग एक माह बाद कटाई शुरू हो जाएगी। उन्होंने बताया कि मूंग की कटाई हार्वेस्टर और मजदूरों के द्वारा कराई जाती है। अगर फसल की लंबाई अधिक है तो कटाई हार्वेस्टर से की जाती है। पौधा अधिक लंबाई का नहीं है तो मजदूरों से हाथों के द्वारा फसल को काटा जाता है। स्थानीय किसान कटाई के दोनों साधनों को लेकर चिंता में हैं। 

कृषक भोजपाल चौधरी ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान गेहूं कटाई के लिए जो हार्वेस्टर स्टाफ पंजाब हरियाणा से आया था। वह आने के लिए तैयार नहीं हो रहा है। इसी के साथ आसपास के जिलों से जो मजदूर फसल कटाई के लिए आते थे वे भी आने के लिए तैयार नहीं है। कृषक केसरीनंदन पटेल जननेता ने कहा बाहर के जो मजदूर होते हैं वह अपना काम पूरी मेहनत लगाकर करते हैं। क्षेत्र में इतने बड़े पैमाने पर मूंग में लगाई गई है कि स्थानीय मजदूरों के द्वारा उसका कट पाना संभव नहीं है। 
किसान की मजबूरी है उसे हार्वेस्टर स्टाफ को बुलाना ही होगा। इस मामले में तहसीलदार राजेश बौरासी ने बताया कि मूंग कटाई के लिए हार्वेस्टर स्टाफ को बुलाने की अनुमति लेने के लिए रोजाना किसान आ रहे हैं। फिलहाल उन्हें कहा जा रहा है कि ई-पास के जरिए हार्वेस्टर स्टाफ को बुलवा लें।  

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना