पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गांव के युवाओं ने आर्किटेक्ट से बनवाया डिजाइन:सेंट्रल विस्टा जैसा बने पंचायत भवन, प्रशासन तय डिजाइन पर ही काम कराने पर अड़ा

होशंगाबाद16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ग्रामीण युवाओं पंचायत भवन का इस तरह बनवाया डिजाइन। - Dainik Bhaskar
ग्रामीण युवाओं पंचायत भवन का इस तरह बनवाया डिजाइन।

मप्र के होशंगाबाद जिले का हिरणखेड़ा गांव। यहां के पंच व युवा गांव में बनने वाले नया पंचायत भवन को सेंट्रल विस्टा(संसद भवन) की तरह बनवाने चाहते है। इसके लिए गांव के युवाओं ने आर्किटेक्ट से एक डिजाइन भी तैयार करवा ली है। लेकिन सेंट्रल विस्टा जैसे पंचायत भवन को बनाने के बीच में सरकारी नियम आड़े आ रहे। जिससे ग्रामीण और प्रशासन के बीच द्वंद चल रहा है। ग्रामीण सेंट्रल विस्टा की तरह ग्राम पंचायत भवन बनाना चाहते और प्रशासन भोपाल से तय डिजाइन के आधार पर पंचायत भवन बनाने पर अड़ा है।

बता दे मप्र शासन के ग्रामीण विकास विभाग के एक आदेश अनुसार कोरोना काल में मजदूरों को काम देने के उद्देश्य से ऐसे ग्राम जहां ग्राम पंचायत भवन या ग्राम स्वराज भवन नहीं है, वहां 14-15 वां वित्त आयोग की राशि से पंचायत भवन का निर्माण करवाया जा रहा है। इस आदेश के तहत हिरणखेड़ा गांव में पंचायत भवन का निर्माण स्वीकृत हुआ है। गांव में युवा सक्रिय है। यहां 20 पंच है। जिनमें 14 पंंच युवा है। पिछले ​चुनाव में पूरी पंचायत को निर्विरोध निर्वाचित करके युवाओं ने एकता दिखाई थी। प्रशासन से पांच लाख रुपए का अवार्ड लिया था। सरपंच सहित गांव के सभी युवा प्रतिनिधि हैं। पंचायत चाहती है कि पंचायत का नया भवन सेंट्रल विस्टा की तर्ज पर बनकर पूरे जिले में एक मॉडल बने। इसके लिए ड्राइंग तैयार करवाई है।

आर्किटेक्ट डिजाइन तैयार कराई

हिरनखेड़ा पंचायत सिवनी मालवा ब्लॉक की एक बड़ी-महत्वपूर्ण और क्लस्टर मुख्यालय पंचायत है। यह तहसील की दूसरी सबसे बड़ी पंचायत है। गांव के युवा पंच आशुतोष लिटोरिया का कहना है कि ग्राम की जनसंख्या 3800 है, ग्रामसभा कोरम के लिए जनसंख्या का 10% होना अनिवार्य होता है, हमने जो डिजाइन तैयार करवाई है उसमें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए ग्रामसभा संभव है। यह हर मौसम के हिसाब से ​सही है। ग्राम के जनपद सदस्य अमित साध ने आर्किटेक्ट से पंचायत भवन की डिजाइन तैयार कराई है। प्रशासन संपर्क करके बार-बार निवेदन किया है, लेकिन हमारी मांग का पालन नहीं करते हुए सरकार द्वारा तय डिजाइन पर काम शुरू कराया गया है। जनपद पंचायत के इस निर्णय से ग्राम वासियों में निराशा है। ग्राम के एक अन्य युवा मनीष गौर का कहना है कि हम सोशल मीडिया के माध्यम से प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री से अपील कर रहे हैं, हमें उम्मीद है कि हमारी मांग पर ध्यान दिया जाएगा।

शासन से तय डिजाइन अनुसा लेआउट डाल काम शुरू हो चुका है।
शासन से तय डिजाइन अनुसा लेआउट डाल काम शुरू हो चुका है।

शासन से तय डिजाइन में बदलाव नहीं होगा

जिला पंचायत सीईओ मनोज सरयाम ने कहा पंचायत भवन की डिजाइन शासन से तय होता है। उसमें हम बदलाव नहीं कर सकते। ग्रामवासी अगर भवन बनाना चाहते है तो वे अपने जनसहयोग से दूसरे स्थान पर बना सकते है। स्वीकृत डिजाइन, भवन निर्माण में बदलाव नहीं होगा।

खबरें और भी हैं...