पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Hoshangabad
  • People Drinking Hot Water To Avoid Corona, Effect Water Cooled Shahpur's Famous Pottery And Sohagpur Jug Eating Dust

कोरोना की मार:कोरोना से बचने के लिए गर्म पानी पी रहे लोग, असर- पानी ठंडा करने वाले शाहपुर के प्रसिद्ध मटके और सोहागपुर की सुराही खा रहे धूल

होशंगाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मिट्‌टी बर्तन व्यापारियों का कारोबार ठप, डॉक्टरों का कहना- मटका, सुराही का पानी नहीं करता मरीजों को नुकसान

कोरोना की दूसरी लहर में ठंडा पानी नहीं पीने की बात इस तरह लोगों के मन में घर कर गई कि गलों को ठंडक देने वाले मटकों, सुराही से भी सबने परहेज कर लिया। इसका असर यह हुआ है कि नर्मदापुरम संभाग के शाहपुर के प्रसिद्ध मटके और सोहागपुर की सुराही धूल खा रहे हैं। कारोबार ठप है। जबकि डॉक्टरों का कहना है मटके का पानी कोरोना मरीजों के लिए नुकसानदायक नहीं है।

होशंगाबाद में एसएनजी स्कूल के सामने वीआईपी रोड किनारे करीब 10 लाख रुपए के गुजरात के रंगीन मटके, सोहागपुर की सुराही, खातेगांव के काले मटके और शाहपुर (बैतूल) के लाल मटके सहित मिट्‌टी के अन्य बर्तन धूल लेकर आए करीब 10 मटका व्यापारियों ने कर्ज लेकर मटके खरीदे थे, अब पछता रहे हैं। व्यापारी गब्बर सिंह मालवीय ने बताया बिक्री न के बराबर है। पिछले साल लॉकडाउन के कारण व्यापार ठप रहा। अब ठंडे पानी से परहेज के कारण लोग नहीं खरीद रहे।

मटके बिकने से ही इन गांवों में पलता है लोगों का पेट
बैतूल के शाहपुर व आसपास के गांवों में सालभर लोगों का पेट गर्मी में बिकने वाले मटकों से ही पलता है। ऐसा ही एक गांव है नीमपानी। यहां सड़क के किनारे 50 हजार मटके रखे हुए हैं। चार हजार मटके इंदल प्रजापति के रखे हैं। प्रजापति ने बताया हर साल हम मार्च में हाेली के समय मटके बनाने शुरू कर देते हैं। इस साल 4 हजार मटके बनाए थे, बिक नहीं रहे।

मिट्‌टी के बर्तन का पीएच बैलेंस सही रहता है
(डॉ. शिवेंद्र चंदेल, चिकित्सा अधिकारी, जिला अस्पताल होशंगाबाद)

मटके का पानी गले से होने वाली बीमारियों से बचाता है। इससे खांसी की संभावना भी कम होती है। मिट्टी का क्षारीय तत्व और पानी का तत्व मिलने से शरीर का पीएच बैलेंस सही रहता है। मटके के पानी का तापमान सामान्य होता है और इससे प्यास भी बुझ जाती है। मटके पानी से शरीर में ऊर्जा रहती है, जो इस समय सबसे जरूरी है।

खबरें और भी हैं...