पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नर्मदा जयंती विशेष:68 गांवों में नदी संरक्षण के लिए लोग कर रहे प्रयास, 4 इलाकों से भास्कर की ग्राउंड रिपोर्ट

होशंगाबाद13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ग्राम धानसी में नर्मदा किनारे रिपेरियन जोन में काम करते गांव के युवक। - Dainik Bhaskar
ग्राम धानसी में नर्मदा किनारे रिपेरियन जोन में काम करते गांव के युवक।
  • संवार रहे मां नर्मदे का हर तट

नर्मदा को प्रदूषित करने और उसके तटों को असुरक्षित करने का लंबा इतिहास है लेकिन पिछले कुछ बरसों में जिले के 68 गांवों में नर्मदा के तटों को सुधारने के प्रयासों में भी इजाफा हुआ है।

हर तट पर पेड़ लगाने, प्रदूषण रोकने के लिए स्थानीय लोग ही प्रयास में जुट गए हैं। इस बदलाव के अच्छे परिणाम भी सामने आने लगे हैं। इस रिपोर्ट में जानिए होशंगाबाद शहर और अन्य गांवों में नर्मदा संरक्षण की दिशा में हुई कोशिशों से आए बदलाव के बारे में।

इसलिए जरूरी है संरक्षण

पौधारोपण के लिए काम करने वाले अशोक बिसवाल ने बताया 30 साल पहले नर्मदा में पानी और प्रवाह बहुत तेज था, लेकिन धीरे-धीरे पानी कम हो गया है। पहले नर्मदा में 77 प्रकार की मछलियां थी, अब 52 प्रकार की बची है। नर्मदा में अब 450 से घटकर केवल 50 प्रजाति की वनस्पति हैं।

जन अभियान के संभाग समन्वयक कौशलेश तिवारी ने बताया नर्मदा किनारे रहने वाले लोगों को नर्मदा परिवार समिति बनाकर दूर जंगल से वनस्पतियों के बीज लाकर नर्मदा किनारे लगाने का काम कर रहे हैं।

हाेशंगाबाद : पौधे लगाए, दीपदान जल में नहीं किनारे पर करते हैं

4 साल पहले नर्मदा के किनारे होशंगाबाद में लायंस क्लब और डीएस दांगी ने 50 मीटर के एरिया में 300 पौधे लगाए थे। आज यह पेड़ बन गए हैं। यहां पर यह काम समुदाय के रूप में किया गया है। लोग नर्मदा को संरक्षित करने के लिए एकत्र होते हैं। नर्मदा जयंती पर विवेकानंद घाट के पास बने रिपेरियन जाेन में पाैधाें के किनारे हेंगिंग कर दीपाें काे जलाने का काम हाेगा। नर्मदा में दीप दान की जगह इन्हीं पौधों पर हैंगिंग कर दीये लगाकर इको फ्रेंडली नर्मदा जयंती उत्सव मनाने का काम करेंगे।

अजेरा : हर साल पौधारोपण, इस बार 2 हजार 740 पौधे लगाए

यहां लगभग 32 एकड़ क्षेत्र को आईजीएस संस्था के माध्यम से संवारने का काम समुदाय कर रहा है। महेश प्रजापति ने बताया यहां पर मनरेगा और ग्राम पंचायत के अलावा इंडियन ग्रामीण सर्विसेज और टीएनसी के माध्यम से भी पौधरोपण का काम किया जा रहा है। अब यह क्षेत्र संरक्षित हो गया है और बदलाव दिखाई दे रहे हैं। गांव में नर्मदेश्वरी ग्राम सेवा समिति के सीताराम पटेल, बसंत कुमार शाह, अमरचंद शाह, द्वारका प्रसाद व्यास, गणेशराम पटेल सहित समिति सदस्याें ने 2740 पाैधे इस बार लगाए हैं।

सूरजकुंड और धानसी : 20 एकड़ में की हरियाली, विदेशी आ रहे देखने

यहां 20 एकड़ के क्षेत्र में समुदाय और ग्राम पंचायत के लोगों ने पौधारोपण कर तटों को संरक्षित किया। अब इस क्षेत्र में कई प्राकृतिक पौधे पुनर्जीवित हो गए हैं। वन्यजीव भी यहां विचरण करते दिखाई देते हैं। यह मॉडल के रूप में विकसित हो गया है। कई विदेशी लोग भी इस क्षेत्र को देखने के लिए आ चुके हैं। 4 साल से नर्मदा के किनारे काम कर रहे शुभम राजपूत, रमेश राजपूत ने बताया कि यहां पर लोग पौधों को संरक्षित करने के लिए काम करते हैं जिससे यह क्षेत्र संरक्षित हुआ है।

भिलाड़िया : पॉलीथिन और साबुन पर रोक, नर्मदा दूत कर रहे जागरुक

यहां नर्मदा किनारे काे पाॅलीथिन मुक्त करने के साथ ही नर्मदा के किनारे पाैधाें का संरक्षण करने का काम अंकिता मंडलाेई के साथ उनकी टीम विनाेद यादव, ऋषभ मंडलाेई, माधव यादव सहित अन्य सदस्य नर्मदा के घाट पर पर्यावरण संरक्षण के लिए काम करते हैं। पाॅलीथिन का उपयाेग के साथ साबुन से स्नान और गांव के गंदे पानी काे नर्मदा में मिलने से राेकने के लिए लगातार काम कर रहे है। अब यहां पर बदलाव दिखाई देता है। हर दिन नर्मदा दूत लोगों को प्रदूषण न करने के लिए जागरुक करते हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

    और पढ़ें