पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सड़क का निर्माण:खर्राघाट पर रेत परिवहन के लिए बनेगी दूसरी सड़क, पुरानी ठीक होगी

होशंगाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
होशंगाबाद| खर्राघाट पर यहां बनेगी परिवहन के लिए दूसरी सड़क। - Dainik Bhaskar
होशंगाबाद| खर्राघाट पर यहां बनेगी परिवहन के लिए दूसरी सड़क।
  • एक ही सड़क होने से नहीं निकल पाते हैं शव ले जाने वाले वाहन

बुदनी-होशंगाबाद के बीच नर्मदा ब्रिज के नीचे खर्राघाट पर रेत के परिवहन के लिए दूसरी सड़क बनाए जाने की तैयारी की जा रही है। दरअसल पिछले 1 माह से कोरोना संक्रमण के चलते शहर और आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों के लोग बड़ी संख्या में शव दहन करने के लिए खर्रा घाट पहुंच रहे हैं। शहर में भी शव वाहन उपलब्ध ना होने की वजह से लोग स्वयं के निजी वाहनों से शवों को अंतिम संस्कार के लिए खर्राघाट ले जा रहे हैं।

यहां आवागमन के लिए एकमात्र सड़क है। वाहनों के अत्यधिक आवागमन और रेत के निरंतर परिवहन से सड़क खराब हो चुकी है। सड़क पर आए दिन वाहन फंस रहे हैं। नपा के शव वाहन चालकों ने भी सड़क खराब होने की समस्या को लेकर शिकायतें की हैं। समस्या के समाधान के लिए अब रेत परिवहन के लिए दूसरी सड़क बनाए जाने की तैयारी की जा रही है। वही पुरानी सड़क को भी ठीक कराया जाएगा।

ब्रिज के दोनों ओर हैं रेत की खदानें
नर्मदा ब्रिज के ठीक नीचे से 200 मीटर की दूरी पर नर्मदा के दोनों ओर रेत खदान में स्वीकृत हैं। इन खदानों पर रेत के ट्रक निरंतर परिवहन कर रहे हैं । रास्ते में शव ले जाने के दौरान वाहन आमने-सामने होने से शव ले जा रहे परिजनों और वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। रोड में बेहद गड्डे भी हो चुके हैं, जिन्हें मरम्मत की आवश्यकता है।

खर्रा घाट पर नर्मदा ब्रिज के नीचे से 200 मीटर की दूरी पर रेत खदानें हैं। रेत के परिवहन के लिए अन्य रास्ते का निर्माण कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं। आज से ही इसका निर्माण शुरू करा दिया जाएगा। ताकि अंतिम संस्कार के लिए आने जाने वालों को किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े।
-शशांक शुक्ला, खनिज अधिकारी

खबरें और भी हैं...