पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शुक्रिया बाढ़:सड़क डूबी तो खुला 1400 कराेड़ के प्रोजेक्ट की खामी का राज; पुल 3 और फोरलेन 1 मीटर नीचे बना दिया

होशंगाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 29 अगस्त काे नर्मदा में आई बाढ़ में निर्माणाधीन गुंजारी पुल और फोरलेन डूब गया था, इसी से पता चली बड़ी गड़बड़ी
  • भाेपाल-नागपुर फोरलेन प्राेजेक्ट : पुल तोड़ना शुरू, फोरलेन भी दोबारा बनेगा, एनएचएआई ने माना- ड्राॅइंग डिजाइन में गलती

(रामभराेस मीणा) भाेपाल (औबेदुल्लागंज) से नागपुर तक नेशनल हाइवे पर 1400 कराेड़ से बन रहे फोरलेन की डीपीआर में बड़ी गड़बड़ी उजागर हुई है। 29 अगस्त को आई बाढ़ में होशंगाबाद और बुदनी के बीच गुंजारी नदी पर बना पुल सहित करीब 1 किमी फाेरलेन सड़क डूब गई।

एनएचएआई (नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया) के अधिकारियाें द्वारा सही माॅनिटिरिंग नहीं करने से कंपनी ने डूब क्षेत्र काे अनदेखा कर निर्माण कर दिया। नया पुल पुराने पुल से भी नीचा बनाया। बाढ़ के बाद एनएचएआई और फोरलेन निर्माता एनकेसी कंपनी ने तकनीकी खामी स्वीकारी है। पुल और फोरलेन तोड़कर ऊंचाई बढ़ाई जा रही है। यदि बाढ़ नहीं आती तो इस खामी का पता नहीं लग पाता।

इधर, एनएचएआई के अधिकारियाें की मानें तो फोरलेन निर्माता कंपनी की ड्राॅइंग डिजाइन की गलती है। एनकेसी कंपनी के साइट इंजीनियर मामले की जानकारी देने से इंकार कर दिया। कहा- वरिष्ठ अधिकारी ही कुछ बता पाएंगे। पुल तोड़कर दोबारा बनाने का काम चल रहा है।

लापरवाही : कंपनी और एनएचएआई अफसरों ने नहीं मानी किसानाें की बात
डीपीआर तैयार करने के दाैरान भी कंपनी को अंदाजा नहीं था कि ब्रिज और फोरलेन सड़क पानी में डूब जाएगी। इसके कारण गुंजारी नदी पर स्टेट हाईवे पर बनाए गए पुराने ब्रिज से भी नीचा बनाया गया। स्थानीय किसानों ने जब इसकाे बनाने के लिए जमीन को काटकर सड़क नीचे बनाई ताे इसका विराेध किया था कि यह डूब जाएगी पर एनएचआई और कंपनी के अधिकारियाें ने किसानों की बात नहीं मानी।

असर : डेढ़ महीने पिछड़ा काम
बाढ़ में पुल और फोरलेन डूबने की लापरवाही उजागर होने के बाद काम करीब डेढ़ महीने पिछड़ गया है। पुल काे पूरा ताेड़ा जा रहा है। पिलर से तीन मीटर हाईट बढ़ाकर नए स्लैब, गर्डर डाले जाएंगे।

अब यह होगा : कंपनी अब गुंजारी पुल की ऊंचाई 3 मीटर बढ़ा रही है। यानी 10 मीटर ऊंचा ब्रिज बनेगा। फोरलेन सड़क भी एक मीटर ऊंची बनेगी।

तीन दिन तक फाेरलेन और ब्रिज डूबे रहे थे बाढ़ में, 982 फीट था नर्मदा का जलस्तर
नर्मदा में इस बार 982 फीट तक पानी आ गया था। इसके चलते तीन दिन तक फाेरलेन और ब्रिज बाढ़ के पानी में डूबे रहे। एनएचएआई से लेकर कंपनी के अधिकारी हैरान हैं कि फोरलेन की डिजाइन बनाने में ऐसी त्रुटी कैसे हो गई।

हर बारिश में होती परेशानी : निर्माण के दौरान गड़बड़ी उजागर हो गई। यदि फोरलेन पर आवागमन शुरू हो जाता ताे बारिश में वाहन चालकों को परेशानी होती।

कंपनी की गलती
एनएचएआई के प्रबंधक संजीव शर्मा के मुताबिक कंपनी की ड्राॅइंग डिजाइन की गलती के कारण ब्रिज नर्मदा की बाढ़ के पानी में डूबा। अब एनकेसी कंपनी ही इसको सुधारेगी। इसकी अलग से लागत नहीं बढ़ेगी। हालांकि इन सबके कारण फाेरलेन सड़क निर्माण का काम लगभग 45 दिन लेट हो जाएगा।

इंजीनियराें काे बताया था, डूब जाएगी सड़क
^फाेरलेन बनाने के दाैरान मैंने कंपनी के इंजीनियराें काे बताया था कि खेत से भी नीचे खुदाई कर सड़क बनाने की जगह ऊंची सड़क बनाएं। फिर भी गुंजारी नदी का पुराना पुल से नीचा नया पुल बनाया। उस वक्त कंपनी के इंजीनियर बोले थे- हमकाे पता है। 100 साल का रिकाॅर्ड लेकर सड़क बना रहे है। बाढ़ में नहीं डूबेगी।
सुशील खत्री, स्थानीय किसान

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें