इटारसी RPF बैरक में चली गोली:9 एमएम की कार्बाइन में राउंड भरते समय 4 राउंड फायर, छर्रे लगने से 4 जवान घायल

होशंगाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अस्पताल में भर्ती आरएसपीएफ के जवान। - Dainik Bhaskar
अस्पताल में भर्ती आरएसपीएफ के जवान।

इटारसी रेलवे जंक्शन के RPF बैरक में रविवार दोपहर हादसा हो गया। यहां 9 एमएम की कार्बाइन में गोली भरते समय जवान से 4 राउंड फायर हो गए। इस हादसे में RPSF (रेलवे प्रोडेक्शन स्पेशल फोर्स) के 4 जवान घायल हो गए। चाराें को रेलवे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। गोली चलने का कारण साफ नहीं हो पाया है। मामले में आरपीएफ के अफसर भी चुप्पी साधे हैं।

जानकारी के मुताबिक शाम 5 बजे आरपीएसएफ के जवान सुमित राणा मंगला एक्सप्रेस से इटारसी से खंडवा ड्यूटी के लिए जाने वाला था। जीआरपी थाने के पास स्थित आरपीएफ की बैरक में सुमित 9 MM की कार्बाइन में राउंड भर रहा था। संभवत: अचानक ट्रिगर दब गया। इस दौरान 4 राउंड फायर हुए। मौके पर अन्य जवान अपने-अपने काम में लगे थे। कुछ ही सेकंड में बंदूक से राउंड निकले। गोली जमीन से होते हुए दीवार से टकराई। इससे दीवार में भी छेद हो गया। चारों जवानों को छर्रे लग गए।

घटना में आरपीएफ जवान टिंकू को गर्दन में छर्रे लगे हैं। उसकी हालत गंभीर है। इसके अलावा, सुमित राणा, जगमोहन और राजीव भी घायल हो गए। घायलों को रेलवे अस्पताल ले जाया गया। यहां ऑपरेशन कर टिंकू की गर्दन से छर्रे निकाले गए। आरपीएफ निरीक्षक देवेंद्र सिंह किसी मामले में अकोला, महाराष्ट्र गए हैं। बताया जाता है कि सामान्य तौर पर रविवार के दिन सभी जवान हथियारों की साफ-सफाई और उनकी टेस्टिंग करते हैं।

एक को नर्मदा अस्पताल व 3 को रेलवे अस्पताल में रखा
RPSF के चारों जवानों सुमित राणा, टिंकू, जगमोहन और राजीव को रेलवे अस्पताल ले जाया गया। टिंकू को गर्दन में छर्रे लगने से नर्मदा अस्पताल होशंगाबाद लाया गया। डॉक्टर वीरेंद्र राजपूत व ट्रॉमा टीम ने ऑपरेशन थिएटर में गले से छर्रे निकाले। नर्मदा अस्पताल में मनोज सारंग ने बताया कि एक एमएम के दो छर्रे निकाले गए हैं।

अफसरों ने साधी चुप्पी
घटना के बाद आरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंच गए। आरपीएफ के सीनियर डिविजनल सिक्युरिटी कमिश्नर (सीनियर डीएससी) बी रामा कृष्णा ने भी घायलों के बयान लिए हैं। उन्होंने घटनास्थल का भी निरीक्षण किया। मामले में घायल जवानों समेत अफसर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं। टीआई सीताराम, एसआई शोबन सिंह, एसआई धर्मेंद्र राजपूत समेत आरपीएफ स्टाफ ने भी घायलों का हाल जाना।