• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Hoshangabad
  • : Siddhanth, Lakshmi, Smita, Anjugam And Priya Enjoying STR Picnic, Sugarcane And Bananas For Four Year Old Vikram

VIDEO में देखिए हाथियों की मौज:सतपुड़ा टाइगर रिजर्व पार्क में छुट्‌टी मना रहे सिद्धनाथ, लक्ष्मी, स्मिता, अंजुगम और प्रिया; 4 साल के विक्रम को भाए गन्ने और केले

होशंगाबाद4 महीने पहले

होशंगाबाद के सतपुड़ा टाइगर रिजर्व (STR) में इस समय अलग ही माहौल है। यहां हाथी पिकनिक मना रहे हैं। सिद्धनाथ, लक्ष्मी, स्मिता, अंजुगम, प्रिया और शरारती विक्रम पसंदीदा दावत उड़ा रहे हैं। वे जमकर मस्ती रहे हैं। हाथियों के साथ रहने वाले महावत भी अनुभव साझा कर रहे हैं।

STR में हर साल 7 दिन का हाथी महोत्सव मनाया जाता है। पहली बार हाथी महोत्सव बागरा बफर के परसापानी में मनाया जा रहा। मंगलवार को हाथी महोत्सव का तीसरा दिन है। STR प्रबंधन गजराज की खातिरदारी में जुटा है। महावत हाथी की मालिश कर आराम करा रहे हैं, तो दोनों टाइम उनका मनपसंद भोजन परोसा जा रहा है।

हाथियों का जंगल में गश्ती करने, बाघ का रेस्क्यू या देखरेख करने में उपयोग होता है।
हाथियों का जंगल में गश्ती करने, बाघ का रेस्क्यू या देखरेख करने में उपयोग होता है।

STR के फील्ड डायरेक्टर एल कृष्णमूर्ति ने बताया कि STR में 6 हाथी हैं, जिनमें सिद्धनाथ, लक्ष्मी, स्मिता, अन्जुगम, प्रिया और 4 साल का सबसे छोटा नर हाथी विक्रमादित्य (विक्रम) है। विक्रम सबसे शरारती और सभी हाथियों का लाड़ला है। सभी हाथी उनका पसंदीदा भोजन गन्ना, मक्का, केले, पपीते, सेब, नारियल और गुड़ बड़े चाव से खा रहे हैं। छोटा हाथी विक्रम को केले और गन्ने खूब पसंद आ रहे हैं।

बाघ के रेस्क्यू में माहिर है STR के हाथी
STR में 6 हाथियों में से 4 मादा और 2 नर हाथी हैं। एक नर हाथी चार साल का बच्चा है, जिससे अभी काम नहीं लिया जाता। 5 बड़े हाथियों का जंगल में गश्ती करने, बाघ का रेस्क्यू या देखरेख करने में उपयोग होता है। एल कृष्णमूर्ति ने बताया कि सिद्धनाथ, लक्ष्मी, स्मिता, अन्जुगम, प्रिया हाथी जंगल में दुर्गम रास्ते पर गश्ती करने, बाघ का रेस्क्यू सहित अन्य कार्यों में माहिर हैं। STR बड़ा क्षेत्र होने के कारण वर्ष भर हाथी अपने महावतों के साथ अलग-अलग क्षेत्रों में गश्ती करते रहते हैं व अन्य साथियों से मिल नहीं पाते हैं। शिविर के आयोजन से हाथी व महावत सभी को एक-दूसरे से मिलने, समय बिताने, खेल कूद आदि का मौका मिलता है।

MP में फिर सुनाई देगी बाघों की दहाड़:4 दिनों बाद खुलेंगे सभी 6 नेशनल पार्क; बुकिंग, ट्रेवल, स्टे और खर्च से जुड़ी आपके काम की हर बात जानिए

खबरें और भी हैं...