पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जिम्मेदार बेखबर:जिम में बिना परमिशन के बिक रहे सप्लीमेंट, सर्टिफाइड ट्रेनर भी नहीं

हाेशंगाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
होशंगाबाद। शहर के जिम सेंटरों में नहीं है सर्टिफाइड ट्रेनर। - Dainik Bhaskar
होशंगाबाद। शहर के जिम सेंटरों में नहीं है सर्टिफाइड ट्रेनर।
  • ब्लड प्रेशर हाे ताे वर्कआउट से बचें, डाइटीशियन की सलाह से ही लें सप्लीमेंट

शारीरिक स्वास्थ्य और आकर्षक शरीर बनाने का क्रेज आज युवाओं में है। शहर में करीब 18 से 20 जिम हैं। अधिकतर जिम में प्रशिक्षित ट्रेनर नहीं है। युवा कम समय में बाॅडी बनाए जाने के लिए युवा एस्टाेराइड का उपयाेग कर रहे हैं जाे सामान्य ताैर पर हानिकारक है। जिम में बिना अनुमति के प्राेटीन सप्लीमेंट और एस्टाेराइड का विक्रय हाे रहा है।

बुधवार काे हाउसिंगबाेर्ड काॅलाेनी स्थित जिम में वर्क आउट के दाैरान विवेक राजपूत (23) की हार्टअटैक के कारण माैत हाे गई। इसके बाद से लाेगाें के मन में जिम में वर्क आउट काे लेकर सवाल खड़े हाे रहे हैं।

इसी तरह की घटना दाे साल पहले इटारसी के एक जिम में हुई थी जिसमें एक डाॅक्टर काे जिम में वर्क आउट के दाैरान हार्ट अटैक आया और उनकी माैत हाे गई थी। बाॅडी बिल्डिंग एसाेसिएशन के सदस्याें और अखाड़े के पहलवानाें के अनुसार जिम में वर्क आउट करते समय अटैक आना एक दुर्घटना है जिसका अंदाजा पहले से नहीं लगाया जा सकता है।

क्षमता से अधिक न करें व्यायाम: कुशवाह
बाॅडी बिल्डिंग एशाेसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष जितेंद्र सिंह कुशवाह ने बताया जिम आने वाले व्यक्ति की बीमारी का पता नहीं लगाया जा सकता है। जिम में अटैक आना एक दुर्घटना है और ऐसी घटनाओं का काेई समाधान नहीं है।

क्षमता के अनुसार ही व्यायाम करें: खंडेलवाल
96 वर्षीय श्रीनारायण खंडेलवाल ने कहा कि जितना बने उतना ही व्यायाम करें। उन्हाेंने बताया कि सुबह 3:30 बजे से सुबह 7 बजे तक व्यायाम किया करते थे। लेकिन उनके साथियाें के साथ अखाड़े में इस तरह की घटना कभी नहीं हुई।

विजय दिवाेलिया बोले-गाइडलाइन निर्धारित हाे
जिला बाॅडी बिल्डिंग एशाेसिएशन के सचिव विजय दिवाेलिया ने बताया कि शहर में अधिकतर जिम में ट्रेनर नहीं हैं। जिम के लाइसेंस देने के लिए गाइडलाइन बनाई जानी चाहिए। सभी जिम में ट्रेंड ट्रेनर हाेने अनिवार्य हैं। जिम में बिकने वाले प्राेटीन सप्लीमेंट की जांच हाे।

सर्टिफाइड ट्रेनर जरूरी

शहर में बहुत की कम जिम में ट्रेंड ट्रेनराें की मदद ली जा रही है। जिम में वर्कआउट के लिए आने वालाें की मेडिकल हिस्ट्री ली जानी जरुरी है। वहीं कम उम्र के युवाओं काे लाइट वेट से ही वर्कआउट कराएं। साथ ही उनकी एक्टीविटी पर ट्रेनर नजर रखें। गाेयल ने बताया कि जिम में फूड सप्लीमेंट बिक रहे हैं साथ ही जल्दी बाॅडी बनाने के लिए युवा एस्टाेराइड का उपयाेग भी कर रहे हैं जाे कि स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक हाेता है। जिम ट्रेनर अर्जुन बस्तवार ने बताया कि हाई बीपी के मरीजाें काे वर्कआउट नहीं करना चाहिए साथ ही डिक्लाइन पाेजिशन में उन्हें एक्सरसाइज न कराएं।
पंकज गाेयल, जिम ट्रेनर

जांच कराई जाएगी
जानकारी नहीं है कि जिम में किसी तरह का फूड सप्लीमेंट बिक रहा है। यदि ऐसा है ताे जिम संचालक काे विक्रय का लाइसेंस लेना चाहिए। इसकी जांच कराएंगे।
ज्याेति बंसल, खाद्य निरीक्षक

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें