पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सीबीएसई एग्जाम:नवमीं से बारहवीं तक अब ज्यादा होंगे वस्तुनिष्ठ प्रश्न

होशंगाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय सवाल 10 प्रतिशत कम, नए पेटेंट के आधार पर होंगे प्रश्नपत्र

सीबीएसई के कक्षा नवमीं से बारहवीं तक की कक्षाओं की परीक्षा में वस्तुनिष्ठ प्रश्न ज्यादा होंगे। लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय प्रश्नों की संकाय और अंक 10 से 20 प्रतिशत तक कम हो जायेगी। अभी स्कूल खुलने को लेकर कोई गाइडलाइन नहीं आई है। लेकिन शैक्षणिक सत्र और स्कूल की पढ़ाई के साथ परीक्षा और मूल्यांकन को लेकर शिक्षण विभागों ने गाइडलाइन जारी कर दी है।

बिना कक्षा लगाए और परीक्षा के रिजल्ट तैयार करने की प्रक्रिया में इस सत्र में खासी मशक्कत करना पड़ी है। ऐसे में सेंटर बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) ने नए सत्र में परीक्षा और मूल्यांकन के तरीके को लेकर निर्देश जारी कर दिए हैं। स्कूल संचालक दर्शन तिवारी ने बताया इस सत्र में नई शिक्षा नीति लागू होगी।

जिसमें क्षमता विकास आधारित शिक्षण प्रणाली ( सीबीएस ) से परीक्षा और मूल्यांकन होगा। इसी के अनुसार सीबीएसई ने सत्र 2021- 22 के लिए परीक्षा और मूल्यांकन की गाइडलाइन जारी की है। जिससे सम्बद्ध सभी स्कूलों में नवमीं से बारहवीं तक ऑनलाइन या ऑफलाइन पढ़ाई करवाई जा सके।

अब इस तहर से होगी 9वीं से 12वीं तक की परीक्षा

कक्षा 9वीं और 11वीं
पहले ऐसा होता था

20 अंक - वैकल्पिक प्रश्न
20 अंक - क्षमता विकास पर आधारित प्रश्न
60 अंक - लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न
अब यह होगा
30 अंक - क्षमता आधारित प्रश्न
20 अंक - वैकल्पिक सवाल
50 अंक - लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

कक्षा 10वीं और 12वीं
पहले ऐसा होता था

20 अंक - वैकल्पिक प्रश्न
10 अंक - क्षमता विकास पर आधारित प्रश्न
70 अंक - लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न
अब यह होगा
20 अंक - क्षमता आधारित प्रश्न
20 अंक - वैकल्पिक प्रश्न
60 अंक - लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

यह होगा लाभ

  • वस्तुनिष्ठ प्रश्न हल करने एनसीईआरटी के पाठ्यक्रम के हर टॉपिक को विस्तार से पढ़ना होगा
  • विषय के अध्ययन से शैक्षणिक गुणवत्ता बढ़ेगी
  • स्कूल की पढ़ाई के साथ स्टूडेंट्स प्रतियोगी परीक्षा के लिए तैयार हो सकेंगे।
खबरें और भी हैं...