पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Hoshangabad
  • Two Clusters Of Garbage Cluster Have Changed, Objections To Third Also, City Is At The Bottom Of The State In The Rankings Right Now

अड़चन:कचरा क्लस्टर की दो जमीन बदली, तीसरी पर भी आपत्ति, अभी रैंकिंग में प्रदेश में सबसे निचले पायदान पर है शहर

होशंगाबाद6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

14 नगरीय निकायों के कचरे काे एकत्र करने के लिए होशंगाबाद में क्लस्टर बनना है। नपा को इसके लिए अब तक जमीन नहीं मिली है। अभी गांव के लाेगाें ने जमीन काे आवंटन से पहले ही आपत्ति लगा दी है। बीच में एसडीएम बदलने से भी मामला आगे नहीं बढ़ा है। वर्तमान में एसडीएम आदित्य रिछारिया ने बताया कि गांव की आपत्ति काे दूर करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

जमीन काे आवंटन के लिए एक समिति का गठन भी हाेना है। इधर मामला एक बार फिर से फंस गया है। वहीं हाेशंगाबाद शहर फाेर आर के तहत काम नहीं करने से ट्रेंचिंग ग्राउंड पर कचरे के पहाड़ बन गए हैं। नपा कचरा बेचने की केवल बात कर रही है। इसकी काेई तैयारी नहीं है। नपा ने पिछले साल की रैकिंग में सबसे निचले पायदान में आने के बाद भी कचरे काे पहाड़ काे साफ नहीं करवा रही है।

टेंडर भी नपा ने नहीं निकाला है। अभी कुछ दिन पहले इंदौर से एक कंपनी आई थी, प्रशासन के अधिकारियों ने उनको बात करने तक का समय नहीं दिया। बाबई में क्लस्टर के लिए जमीन 2 साल तक अटकी रही। इसके बाद होशंगाबाद और अब डोलरिया तहसील में गुनाैरा जमीन के लिए प्रशासन जगह उपलब्ध कराने में नाकाम है।

अब जिस जमीन काे आवंटन हाेना है उस पर आई आपत्ति काे भी प्रशासन हल नहीं कर पा रहा है। सीएमओ माधुरी शर्मा ने बताया ट्रेंचिंग ग्राउंड में सर्वे करा लिया है। 3600 टन कचरा यहां है। अब इसकाे साफ करवाने के लिए टेंडर किया जाना है।

फटका और बेलिंग मशीनें पड़ीं बेकार
नपा कचरा प्रबंधन में भी नाकाम रही है। पॉलीथिन बिक रही है। फटका और बेलिंग मशीन बेकार पड़ी है। 17 वाहनों में कचरा गीला और सूखा एकत्र नहीं कर पा रही है, ना ही जीपीएस सिस्टम से मॉनिटरिंग हो पा रही है। अभी तक फाेर आर को नहीं अपनाया गया है।

शहर में नहीं लगी पाॅलीथिन पर राेक : नपा में कचरा काे हटाने में नाकाम रहने के साथ सिंगलयूज पाॅलीथिन काे भी नहीं राेक पा रही है।

फोर आर के तहत ये हाेने थे काम

पहला आर : रिड्यूज
रहवासी गीले-सूखे कचरे को घर पर अलग अलग नहीं करते हैं। गीले कचरे को हाेम कंपोस्ट यूनिट में नहीं डालते हैं।

दूसरा आर : रियूज
कचरा अलग ही नहीं हाे रहा है। ऐसे में रीयूज का काम नपा नहीं कर पा रही है।

तीसरा आर : रिसाइकिल
नपा के पास ट्रेंचिंग ग्राउंड में कचरा डालने की जगह नहीं है। नपा काे क्लस्टर के लिए जगह भी नहीं मिल पा रही है।

चौथा आर : रिफ्यूज
प्लास्टिक पाउच, प्लास्टिक कचरा नष्ट करना या उपयोग रोकना। इसे फिर से उपयोगी बनाना।

खबरें और भी हैं...