ध्वज चढ़ाया:लोकमंगल की कामना कर दूज पर हनुमानजी को चढ़ाया ध्वज, एक परिवार 454 साल से चढ़ा रहा ध्वज

शाहपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • लक्ष्मीनयन शुक्ल ने बताया उनके पूर्वज हनुमानजी के मंदिर पर 454 साल से निशान चढ़ा रहे

नगर के लक्ष्मीनयन शुक्ल का परिवार पारंपरिक ताैर पर हर साल कार्तिक शुक्ल द्वितीया तिथि पर लोकमंगल की कामना कर हनुमानजी के मंदिर पर ध्वज चढ़ रहे हैं। यह क्रम पीढ़ी दर पीढ़ी जारी है। शनिवार काे राम मंदिर से ध्वज यात्रा शुरू हुई। इसमें बड़ी संख्या में नगरजन शामिल हुए। ध्वजयात्रा राममंदिर, कृष्ण मंदिर, खेड़ापति मंदिर, माचना किनारे, हनुमानजी के मंदिर से होती हुई बड़े बजरंग आमढाना पहुंची, जहां हवन, पूजन के बाद हनुमानजी के मंदिर पर निशान चढ़ाया।

लक्ष्मीनयन शुक्ल ने बताया उनके पूर्वज हनुमानजी के मंदिर पर 454 साल से निशान चढ़ा रहे हैं। वे 50 साल से शाहपुर और आमढाना के बड़े बजरंग मंदिर पर निशान चढ़ा रहे हैं। पूर्वजों के द्वारा विभिन्न मंदिरों में यथाकाल यह अनुष्ठान किया जाता रहा है। उन्होंने बीते 25 साल में कई बार ऐसी परिस्थिति का सामना भी किया है, जब निशान चढ़ाने के समय उनके साथ सिर्फ परिवार के सदस्य ही रहे पर क्रम नहीं टूटा। बीते कुछ साल से अब नगर के श्रद्धालुओं का सहयोग मिलने लगा है। लोग आगे आकर ध्वजयात्रा में सहयोग कर मंदिर तक यात्रा कर रहे हैं। यह आयोजन लोकमंगल की कामना से किया जाता है। इस अवसर पर पंडित सुरेश परसाई प्रधान पुजारी राममंदिर शाहपुर, महेश राठौर, नितिन मेहतो, किशोर गुप्ता, गुड्डा टेलर, मधुकर शुक्ला, आकाश गुप्ता, कमलाकर शुक्ला समेत बड़ी संख्या में युवा मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...