पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसानाें की परेशानी:नहराें में पर्याप्त पानी नहीं पहुंचने से सिंचाई में देरी, किसानाें ने नहर पर जाकर जताया विराेध

टिमरनीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • वर्तमान में 1489 क्यूसेक पानी मिल रहा, अब तक 2050 क्यूसेक पानी मिलना था

किसानों ने खेताें में मूंग की बाेवनी तो कर दी, लेकिन नहर शाखाओं में पानी का लेवल नहीं बनने से सिंचाई शुरू नहीं हाे पा रही है। किसानाें काे चिंता है कि इस स्थिति में वे कैसे मूंग फसल की सिंचाई करेंगे। इसी समस्या काे लेकर रविवार काे कई किसान गाेंदागांव शाखा पर विराेध दर्ज कराने पहुंचे। अभी तक जिन शाखाओं से किसानों को पानी मिलता है उनमें नाममात्र का ही पानी छाेड़ा गया है।

तवा डेम से बांयी तट मुख्य नहर में पानी छूटे हुए करीब 6 दिन बीत चुके हैं। जिले में पानी आए भी 4 दिन हो चुके हैं। वर्तमान में जिले को मात्र 1489 क्यूसेक पानी ही प्राप्त हो रहा है, जो जिले की मांग का लगभग 70 प्रतिशत के आसपास है। अभी तक जिले को कम से कम 2050 क्यूसेक पानी प्राप्त हो जाना था। ऐसे हालात में किसान मूंग फसल का अच्छा उत्पादन कैसे ले पाएंगे यह बड़ा सवाल है।

मूंग की खेती में मेहनत और लागत अधिक होती है। समय पर सिंचाई के अलावा कीटनाशक का स्प्रे करना पड़ता है। यदि समय रहते पानी नहीं मिला ताे बारिश के पहले किसान सिंचाई पूरी कर फसल की कटाई नहीं करा पाएंगे। पानी समय पर नहीं मिला ताे निश्चित ही क्षेत्र के किसानों को नुकसान उठाना पड़ सकता है। नहर शाखाओं को लेकर सिंचाई विभाग के जवाबदार भी अनजान बने हुए हैं।

नहरों में पानी कम मिलने से जिले के करीब 50 प्रतिशत किसान पानी के लिए तरस रहे हैं। किसानों की मानें तो जिले काे पूरा पानी मिला तो ही उन्हें लाभ हाेगा। पानी सही मात्रा में शीघ्र उपलब्ध नहीं कराया तो निश्चित ही फसल के उत्पादन पर काफी असर पड़ेगा।

विराेध प्रदर्शन के दाैरान मंगल डूडी, रामनिवास जाट, बलराम शर्मा, बृजेश पाल, बसंत राजपूत, बलराम मौर्य सहित बिच्छापुर, बघवाड़, बाजनिया, गाडरापुर, रायबोर के दर्जनाें किसान माैजूद थे।

जानबूझकर पानी कम दे रहा विभाग

गोंदागांव नहर शाखा पर रविवार काे बिच्छापुर व बघवाड़ के किसान विरोधी दर्ज कराने पहंुचे। किसानाें का कहना था कि विभाग काे तय समय पर ही पर्याप्त पानी देना चाहिए, ताकि किसान एक साथ सिंचाई कर सके। विभाग जानबूझकर कम पानी दे रहा है, जिससे किसानाें काे सिंचाई करने में परेशानी हाे रही है। विभाग काे जल्द पानी का स्तर बढ़ाना चाहिए।

अधीक्षण यंत्री काे जल्द भेजी जाए पानी की डिमांड

मंूग के लिए समय पर पानी नहीं मिलने पर किसान संगठनाें ने आंदाेलन की चेतावनी दी है। किसानाें ने बताया पानी की कमी से नहरों का लेवल नहीं बन रहा है। यदि जिले के अधिकार का पूरा पानी शीघ्र उपलब्ध हुआ तो किसानों को मूंग के लिए पर्याप्त पानी मिल सकता है।

किसान संघ ने जिले के दोनों संभाग के कार्यपालन यंत्री को अपने डिजाइन डिस्चार्ज अनुसार जिले के लिए 2053 क्यूसेक की डिमांड अधीक्षण यंत्री तवा परियोजना मंडल होशंगाबाद को भेजने की मांग की है। ग्रीष्मकालीन मूंग फसल का समय कम होने के चलते 2 दिन के बाद 2250 क्यूसेक किया जाए। यदि कम पानी की वजह से किसान परेशान होते हैं ताे संगठन को आंदोलन के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

फिलहाल 750 क्यूसेक पानी चल रहा

विभाग ने मूंग फसल में सिंचाई के लिए अभी 1705 हेक्टेयर जमीन शामिल की है। जहां तक शाखाओं में पानी कम हाेने की समस्या है तो एक-दो दिन में स्थिति में सुधार आएगा। फिलहाल 750 क्यूसेक पानी चल रहा है।

-एफके भीमटे, कार्यपालन यंत्री, हंडिया शाखा नहर संभाग टिमरनी

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- वर्तमान परिस्थितियों को समझते हुए भविष्य संबंधी योजनाओं पर कुछ विचार विमर्श करेंगे। तथा परिवार में चल रही अव्यवस्था को भी दूर करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण नियम बनाएंगे और आप काफी हद तक इन कार्य...

    और पढ़ें