पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

परेशानी :समितियाें में कई किसानाें के खाते नहीं, दाे-दो बाेरी यूरिया लेने हो रहे परेशान

टिमरनी15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पट्टे की जमीन पर खेती करने वाले किसानाें काे नहीं मिल रहीं सुविधाएं
Advertisement
Advertisement

ब्लाॅक के आदिवासी अंचल में कई किसानाें के सहकारी समितियाें में खाते नहीं हैं। उन्हें हर साल शासन की याेजनाओं से वंचित रहना पड़ रहा है। मंगलवार काे कई किसान 60 किलाेमीटर का सफर कर नकद में यूरिया लेने पहुंचे। 30 से 35 किसान ऐसे थे, जिन्हें उनके क्षेत्र की समितियाें से नकद में यूरिया नहीं मिल रहा था। कई किसान दाे पहिया वाहनाें से ताे कई ट्रैक्टर-ट्राॅलियाें से खाद लेने पहुंचे। आदिवासी अंचल के गांवों में अनेक किसान ऐसे हैं, जिनके पास जमीन के पट्टे ताे हैं, लेकिन सहकारी समितियों में खाते नहीं हैं। इसी कारण सहकारी समितियों से खाद नहीं दिया जाता है। आदिवासी बमुश्किल पट्टे की जमीन पर खेती कर परिवार का पालन-पोषण करते हैं। रहटगांव सहकारी बैंक शाखा से लगी हुई सहकारी समितियों से कई किसानाें काे नकद यूरिया नहीं दिया जा रहा है। आदिवासी गांव ढेगा, कायदा, मालेगांव, लोधीढाना, कुमरुम सहित अन्य गांव के 50-60 किसान दाे दिनाें से यूरिया खाद लेने लाइन में लग रहे हैं। इनमें महिलाएं भी शामिल हैं। टिमरनी मंडी स्थित नकद खाद विक्रय केंद्र पर आदिवासी आ रहे हैं। मंगलवार दोपहर करीब 2 बजे तक लाइन में लगने के बाद यूरिया मिला। वे अपने घर के लिए रवाना हुए। 

किसान दाे दिन से आ रहे खाद लेने

कायदा निवासी आदिवासी किसान सोमा भुसारे ने बताया उन्हें यूरिया लेने के लिए परेशान हाेते हुए लगातार 2 दिन हो गए हैं। आज हमें बमुश्किल यूरिया मिला है। समिति में खाता नहीं होने के कारण नकद में यूरिया नहीं दिया जाता है। इस कारण हम टिमरनी आए। इसी तरह कुमरुम निवासी रामसिंह ने बताया सभी किसान 60 किलोमीटर दूर से आए हैं। सुबह 10 बजे से लाइन में लगे हैं। हमारी समितियों को नकद में यूरिया देना चाहिए, जिससे हमें इतनी लंबी दूरी से टिमरनी ना आना पड़े। इसी तरह बोरी, रवांग, मालेगांव, ढेगा, टेमरूबहार, कचनार, सहित अन्य आदिवासी अंचल के आदिवासी किसान मौजूद थे। 

आने-जाने में प्रति किसान खर्च हाे रहे 150 रुपए 
किसानाें काे लंबी दूरी तय कर खाद लेने आने में समय के साथ रुपए भी खर्च करने पड़ रहे हैं। एक किसान काे दाे बाेरी यूरिया दिया जा रहा है। किसानों ने बताया एक व्यक्ति काे 150 रुपए खर्च कर आना-जाना पड़ रहा है। मात्र दो बोरी यूरिया मिलता है। इस हिसाब से किसानाें काे खाद काफी महंगी पड़ रही है। मंगलवार के दिन दोपहर करीब 2 बजे लाइन में लगने के बाद यूरिया मिला।

हमारे पास 19 टन यूरिया, 22 टन डीएपी आया था,  जो दो-दो समितियों को दिया गया। राजाबरारी व रवांग को एक एक ट्रक माल दिया,  जो किसान नकद यूरिया लेने टिमरनी पहुंचे हैं, उनके सहकारी समितियों में खाते नहीं होंगे, इसीलिये इन्हें टिमरनी जाना पड़ा। ओमप्रकाश श्रीवास, शाखा प्रबंधक, जिला सहकारी बैंक शाखा रहटगांव

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज का दिन पारिवारिक और आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदायी है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति का अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ निश्चय से पूरा करने की क्षमत...

और पढ़ें

Advertisement