पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र:पंजीयन से अधिक महिलाएं पहुंचीं केंद्र, ऑपरेशन नहीं हाेने से होती रहीं परेशान

टिमरनी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शेष महिलाओं के आज किए जाएंगे ऑपरेशन

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में नसबंदी का ऑपरेशन कराने पहुंच रहीं महिलाओं काे इंतजार करना पड़ रहा है। केंद्र में शनिवार काे लगे शिविर के लिए 90 महिलाओं का पंजीयन किया गया था। इसमें से महज 52 महिलाओं के ही नसबंदी के ऑपरेशन हाे पाए। शेष महिलाओं के ऑपरेशन साेमवार काे किए जाएंगे। इनमें शहरी क्षेत्र व आसपास गांवाें की महिलाएं शामिल हैं, जाे शनिवार काे पूरे दिन परेशान हुईं। अब उन्हें ऑपरेशन कराने के लिए साेमवार काे भी केंद्र आना पड़ेगा।

इस स्थिति से महिलाओं काे दिक्कताें का सामना करना पड़ रहा है। शिविर में वनांचल की महिलाओं काे नसबंदी के लिए आशा कार्यकर्ताओं ने प्रेरित कर केंद्र तक पहंुचाया। 52 महिलाओं के ऑपरेशन सर्जन डाॅ. शिरीष रघुवंशी ने किए। शेष महिलाओं काे स्वास्थ्य विभाग ने वापस उनके घर भेज दिया। बीएमओ डाॅ. एमके चौरे ने बताया शनिवार को 90 महिलाओं ने पंजीयन कराया था। 52 के ही ऑपरेशन हुए।

हमने आशाओं को पहले ही सूचना भी दे दी थी कि पंजीयन से अधिक महिलाओं काे नहीं लाना है। इसके बाद भी कार्यकर्ताएं महिलाओं काे ऑपरेशन के लिए केंद्र लेकर पहुंच गईं। बीएमओ ने कहा दाे शिफ्ट में ऑपरेशन किए गए। पहली शिफ्ट में दोपहर 12 से 2 बजे तक व दूसरी शिफ्ट में शाम 4 से 7.30 बजे तक ऑपरेशन किए गए। जिन महिलाओं के पंजीयन होने के बाद ऑपरेशन नहीं हुए उनमें नगरीय क्षेत्र व आसपास गांवों की महिलाएं शामिल हैं, जिनका सोमवार को ऑपरेशन हाेगा।

बच्चाें के साथ खुले में बैठी रहीं महिलाएं
ऑपरेशन कराने पहुंची महिलाएं घंटाें तक अस्पताल परिसर में खुले में बैठी रहीं। उनके साथ छाेटे बच्चे भी थे। इस संबंध में बीएमओ डाॅ. चाैरे ने कहा महिलाओं के लिए अस्पताल के अंदर बैठने की व्यवस्थाएं हैं पर वे बैठती नहीं हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें