पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परीक्षा की तैयारी:सीबीएसई ने बदला पैटर्न, प्रोजेक्ट व असाइनमेंट पर जोर

आलीराजपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बोर्ड ने तैयार किया नया फॉर्मूला, अब वैकल्पिक प्रश्न पर आधारित होंगी परीक्षाएं

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने विद्यार्थियों के हित में बड़ा फैसला लिया है। सीबीएसई ने कोरोना महामारी को देखते हुए नया फार्मूला तैयार किया है। इससे कोराेना महामारी भी परीक्षा को प्रभावित नहीं कर पाएगी। पैटर्न में बदलाव करते हुए वर्ष में दो बार परीक्षा लेने का निर्णय लिया है।

हर हाल में परीक्षाएं हो सकें, इसके लिए सीबीएसई ने पुख्ता तैयारी की है। नए फॉर्मेट के अनुसार सिलेबस भी 50-50 प्रतिशत दाे हिस्सों में बांटा है और बोर्ड परीक्षाएं भी दो हिस्सों में हाेंगी। पहला हिस्सा एमसीक्यू यानी वैकल्पिक प्रश्न टेस्ट पर आधारित होगा तो वहीं दूसरा हिस्सा सामान्य तौर पर सेंटर पर होगा।

हालांकि हालात बिगड़ने पर परीक्षा के दूसरे हिस्से को भी एमसीक्यू बेस्ड किया जा सकता है। दरअसल, कोरोना महामारी के कारण पिछले दो वर्षों से बोर्ड परीक्षा नहीं हो सकी है लेकिन इस बार सीबीएसई बोर्ड ने नीतियों में बदलाव किया है।

पहली परीक्षा नवंबर-दिसंबर, 2021 में 4 से 8 सप्ताह की समय सीमा में आयोजित की जाएगी जबकि दूसरी परीक्षा मार्च-अप्रैल में हाेगी। यह बाहर से आए परीक्षकों और सीबीएसई द्वारा नियुक्त पर्यवेक्षकों की निगरानी में होगी।

ओएमआर शीट वेबसाइट पर अपलोड होगी

जानकारी के अनुसार स्टूडेंट्स सवालों के जवाब ओएमआर शीट पर भरेंगे। इनको स्कैन करने के बाद सीधे सीबीएसई की वेबसाइट पर अपलोड किया जाएगा। मार्च-अप्रैल 2022 में होने वाली परीक्षा तय किए केंद्रों पर ही होगी। सीबीएसई इंटरनल असेसमेंट और प्रोजेक्ट पर विशेष ध्यान देगी।

छात्र अपने प्रैक्टिकल्स और प्रोजेक्ट्स पूरे कर लें

स्कूल खुलने के बाद प्रोजेक्ट और असाइनमेंट आधारित पाठ्यक्रम पर विशेष जोर है। समय रहते छात्र अपने प्रैक्टिकल्स और प्रोजेक्ट्स पूरा कर लें क्योंकि इनका सीधा असर छात्रों के वार्षिक मूल्यांकन पर पड़ता है। इसलिए जिले के स्कूल भी इस दिशा में काम कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...