पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

दुर्घटना:मिर्ची तोड़कर आ रहे 30 से 40 बच्चों से भरी पिकअप को अज्ञात वाहन ने मारी टक्कर, छत पर पैर लटकाकर बैठे 5 घायल, 2 रैफर

आलीराजपुर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नानपुर थाना क्षेत्र के फाटा चुना भाटा के पास हादसा
  • जिले में ओवरलोडिंग और बाल श्रम बना हुआ है चुनौती

जिले में ओवरलोडिंग चलने वाले वाहनों पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। चार पहिया यात्री वाहन लोगों को छत पर पीछे तक लटकाकर उनकी जान जोखिम में डालते हैं। जिससे जिले में हादसे बढ़ते जा रहे हैं।

शनिवार देर शाम फिर ओवर लेडिंग के कारण एक हादसा हो गया। जिसमें पांच बच्चे घायल हो गए। घायलों को 108 के माध्यम से उपचार के लिए नानपुर सामुदायिक स्वास्थ केंद्र ले जाया गया। जहां पर दो का प्राथमिक उपचार किया गया व तीन बच्चों को जिला अस्पताल भेजा गया था। यहां उपचार की पर्याप्त सुविधा नहीं होने से दो बच्चों को बड़वानी के सरकारी अस्पताल रैफर किया गया है। घायल होने वाले बच्चों की उम्र 10 से 12 साल के बीच बताई जा रही है।

जानकारी के अनुसार बताया नानपुर क्षेत्र के आसपास के कई गांवों के 35 से 40 बच्चों को पिकअप में भरकर धार जिले के कुक्षी क्षेत्र के सिरकुआ गांव में मिर्ची तुड़वाने के लिए ले जाया गया था। शनिवार देर शाम वापस लौटते समय नानपुर के चुना भाटा के पास पिकअप को अज्ञात वाहन ने साइड से टक्कर मार दी और वह फरार हो गया।

108 के ईएमटी मुकेश मंडलोई, पायलेट सुनिल मेढ़ा ने बताया हादसे की सूचना ग्रामीणों को लगी तो उन्होंने 108 को सूचना दी और बच्चों को अस्पताल पहुंचाया गया। गंभीर घायल बच्चों में शिवराज पिता भुरसिंह (10) निवासी माच्छलिया नीमड़ी फलिया, महेश पिता महावीर (10) निवासी नीम फलिया व संजय पिता दुकालसिंह (11) निवासी फाटा शामिल है।

बाल श्रम पर नहीं लग रही पा रोक

जिले में बालश्रम पर रोक लगाना भी चुनौती बना हुआ है। ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों के पास रोजगार नहीं है। ऐसे में वे अपने बच्चों से मजदूरी करवाते है। शहर में कई होटलों और ढाबों पर बच्चे काम करते आसानी से दिखाई दे जाते हैं। चाइल्ड लाइन ने मई में बोरी से 6 बच्चों को रेस्क्यू किया था।

यहां बच्चों से ठेकेदार ट्रॉलियों में ईंट और मिट्टी भरवा रहे थे। इसके अलावा पिछले साल खरपाई के 30 बच्चों को रेस्क्यू किया गया था। बच्चों को धार जिले के कुक्षी व निसरपुर के आसपास के गांवों में ले जाकर मजदूरी करवाई जाती है।

अनदेखी : ओवरलोडिंग के कारण पहले भी घायल हो चुके मजदूर

गौरतलब है कि जिले में ओवरलोडिंग एक बड़ी समस्या बन चुकी है। ग्रामीण क्षेत्रों से आने-जाने के साधन नहीं होने के कारण एक ही वाहन में बड़ी संख्या में लोग सफर करते हैं। पुलिस इन पर कार्रवाई तो करती है लेकिन ये एक चुनौती इसलिए भी बनी हुई है क्‍योंकि कार्रवाई देख वाहन चालक भागने लगते हैं।

ऐसे में छत पर और पीछे लटक रहे लोगों की जान का खतरा और बढ़ जाता है। करीब दो माह पूर्व कुक्षी रोड पर टोल नाके के आगे 40 से अधिक मजदूर से भरा एक लोडिंग वाहन पलट गया था। जिसमें कई लोग घायल हुए थे।

ग्रमीण सवाल करते हैं कि काम नहीं कराएंगे तो खिलाएंगे क्या

बालश्रम को रोकने के लिए लोगों को जागरूक करने की जरूरत है। इसके लिए हम ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर हर माह एक अवेयरनेस प्रोग्राम चलाते हैं। ग्रामीणों को समझाने पर वो जवाब देते हैं कि बच्चों से काम नहीं कराएंगे तो खिलाएंगे क्या? आप कुछ सहायता थोड़ी न कर दोगे उनके लिए?

-मनीषा बागोले-काउंसलर, चाइल्ड लाइन, आलीराजपुर

अज्ञात वाहन पर केस दर्ज

पिकअप चालक विस्ता पिता दलसिंह कनेश निवासी माच्छलिया की शिकायत पर अज्ञात वाहन के खिलाफ के केस दर्ज किया हैं। जांच की जा रही हैं।
-मोहन डावर, टीआई, नानपुर

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- किसी अनुभवी तथा धार्मिक प्रवृत्ति के व्यक्ति से मुलाकात आपकी विचारधारा में भी सकारात्मक परिवर्तन लाएगी। तथा जीवन से जुड़े प्रत्येक कार्य को करने का बेहतरीन नजरिया प्राप्त होगा। आर्थिक स्थिति म...

और पढ़ें