पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

विचार:सोचने की कला से जीवन में परिवर्तन होता है

आलीराजपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • महात्मा गांधी मार्ग स्थित ब्रह्माकुमारी सभागृह से ब्रह्माकुमार नारायण भाई ने कहा

किसी भी कार्य को करने की एक कला होती है। जब कार्य उसी प्रमाण किया जाता है तो कम खर्च कम ऊर्जा और कम समय में उसे सुंदर बना सकते हैं। ऐसे कार्य से सबको सुख मिलता है। संसार में अनेक प्रकार की कलाएं हैं, इनको सीखने के लिए मानव अपना बहुमूल्य समय धन खर्च करता है।

सबसे ऊंची कला कहे वह है सोचने की कला। ब्रह्माकुमारी में इसी कला का ज्ञान दिया जाता है। कोई चित्र इतना खूबसूरत नहीं होता तो एक कलाकार उस में रंग भरकर उसे आकर्षक बना देता है। इसी प्रकार हमारे मन में भी यदि किसी के प्रति गलत भावना बनी हुई है तो अब उसमें शुभ भावना, शुभकामना के रंग भरकर हम भी उसे आकर्षक बना सकते हैं। इससे स्वयं को भी और उसको भी निश्चित रूप से सुख मिलेगा।

यह विचार इंदौर से पधारे जीवन जीने की कला के प्रणेता ब्रह्माकुमार नारायण भाई ने महात्मा गांधी मार्ग स्थित ब्रह्माकुमारी सभागृह में सोचने की कला विषय पर नगरवासियों को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा एक शोध के अनुसार मनुष्य की 80 प्रतिशत संकल्प शक्ति व्यर्थ जा रही है।

मुश्किल से 20 प्रतिशत काम में लगती है। मनुष्य एक मिनट में 27 या 30 विचार उत्पन्न करता है। इनमें से अगर 80 प्रतिशत व्यर्थ चले गए तो काम के तो मात्र 5 या 6 ही बचे। अतः संकल्प पर ध्यान देने की बहुत जरूरत है। कुछ व्यर्थ चिंतन चल रहा है जो हमारी ऊर्जा को नष्ट कर रहा है।

जैसे जंगल में भटक रहे मानव को जब तक दिशा नहीं मिलती तब तक उसका समय, शक्ति व्यर्थ जाते रहते हैं। आज अधिकांश बीमारियां, तनाव, चिंता, समस्याओं का कारण यही हमारा कमजोर मन बनता जा रहा है। मान लीजिए किसी के बहुत व्यर्थ संकल्प चल रहे हैं, इसने ऐसा क्यों किया, मेरे साथ ऐसा क्यों होता है, इस को बदलना चाहिए आदि।

हमारे हर संकल्प में रचनात्मक शक्ति होती है
नारायण भाई ने कहा हमारे हर संकल्प में रचनात्मक शक्ति होती है। संकल्प के आधार पर शरीर रूपी प्रकृति भी बदल जाती है। यदि कोई पूरी लगन से बार-बार यह संकल्प करता है कि मैं बीमार हूं तो बीमारी के कीटाणु उस शरीर में बन जाते हैं। जैसे स्थूल धन का एक-एक पैसा खर्च करते समय कितना ध्यान देते हैं, बजट बनाते हैं। इतना ही ध्यान अपने एक-एक संकल्प पर रहता है? अपने संकल्प को श्रेष्ठ बनाने का आधार है। अटेंशन रूपी पहरेदार सदा सजग रहे, समय प्रति समय अपने संकल्प की दिशा व गति को चीज करें। बार-बार देखें कि मेरे संकल्प ज्ञान युक्त कल्याणकारी है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपको कई सुअवसर प्रदान करने वाली हैं। इनका भरपूर सम्मान करें। कहीं पूंजी निवेश करने के लिए सोच रहे हैं तो तुरंत कर दीजिए। भाइयों अथवा निकट संबंधी के साथ कुछ लाभकारी योजना...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser