कोरोना से बचाव / होटल, ढाबों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर अनिवार्य किया जाए इकोफ्रेंडली डिस्पोजल आयटमों का उपयोग

X

  • स्वरोजगार कर रहे युवाओं ने कलेक्टर व सीईओ को आवेदन देकर की मांग

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 07:32 AM IST

आलीराजपुर. काेरोना से बचाव के लिए होटल, ढाबों व अन्य सार्वजनिक स्थानों पर इकोफ्रेंडली डिस्पोजल आयटमों का उपयोग अनिवार्य करने की मांग को लेकर इस क्षेत्र में स्वरोजगार कर रहे युवाओं ने कलेक्टर सुरभि गुप्ता व जिला पंचायत सीईओ एसके मालवीय काे आवेदन सौंपा। युवाओं ने कहा कि दुनिया और हमारा देश कोविड-19 नामक महामारी से गुजर रहा है। इस महामारी को ठीक करने का कोई तरीका नहीं हे। क्योंकि अभी तक कोई विशिष्ट वैक्सीन विकसित नहीं हुई है। कोविड-19 के प्रभाव से बचने का एकमात्र तरीका शृंखला को तोड़ना है। जैसा कि हमारे प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें इसे अपनाना होगा। 

इस बीमारी के साथ जीना शुरू करना होगा। अपनी जीवन शैली काे भी बदलना होगा। यदि हम अपने जिले के संदर्भ में देखते हैं तो पिछले कुछ हफ्तों से ग्रीन जोन में है। हमें इसे बनाए रखना होगा। लेकिन फिर भी हम लोगों के बीच कोरोना फैलने का खतरा है। जिन लोगों के आजीविका विभिन्न व्यवसाय संस्थानों पर निर्भर करती है। उनके बारे में भी सोचना होगा। प्रतिष्ठानों को निश्चित समय के लिए खोलने की अनुमति दे दी गई है। वहीं जो अब भी बंद है उन्हें आज या कल तो खाेलना ही होगा। इसलिए हम मांग करते हैं कि होटल, ढाबे किसी भी प्रकार के खाद्य या पेय पदार्थ के ठेला या दुकान प्रशासनीक कार्यालय, निजी कार्यालय, शैक्षणिक संस्था जहां काेरोना वायरस का आदान-प्रदान की संभावना हो वहां इकोफ्रेंडली या नष्ट योग कागज से बने डिस्पोजल आयटम के उपयोग को अनिवार्य रूप से घोषित किया जाए। इससे स्वरोजगार कर रहे लोगों के उत्पादन को भी बढ़ावा मिलेगा। 

आम सतहों पर कोविड-19 का जीवनकाल 

  • हवा- 3 घंटे 
  • कॉपर ग्लास - 4 घंटे
  • पेपर कप - 24 घंटे
  • स्टील ग्लास - 2 से 3 दिन 
  • प्लास्टिक - 3 दिन

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना