पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आयोजन:चातुर्मास के लिए विराजित आचार्य मृदुरत्नसागरसूरीजी की महामांगलिक के साथ 15 दिनी महोत्सव शुरू

बदनावर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • समाजजन काे घर बैठे कराएंगे भाव यात्रा, बच्चे देंगे प्रस्तुति

नगर में चातुर्मास के लिए विराजित आचार्य मृदुरत्नसागरसूरीजी द्वारा प्रतिमाह होने वाली महा मांगलिक नवरात्रि में शुरू की। इसी के साथ 15 दिनी महोत्सव भी प्रारंभ हो गया। आचार्य के मुखारविंद से हजारों वर्ष प्राचीन मंत्रों के साथ मांगलिक का श्रवण कराया गया।

साथ ही इसकी विवेचना भी की गई एवं हमारी आत्मा एवं शरीर पर होने वाले प्रभाव की भी व्याख्या की गई। इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण साेशल मीडिया पर हुआ। जिसका लाभ हजारों परिवारों ने अपने घरों पर बैठ कर लिया।

आचार्य की निश्रा में 15 दिवसीय आयोजन चार भागों में होगा। प्रथम भाग में महा मांगलिक हुई। द्वितीय भाग में 3 दिनी आयोजन में देवलोक, मनुष्य लोक एवं पाताल लोक में स्थापित शाश्वत जिन मंदिर जो कि अनादि काल से है एवं अनादि काल तक रहेंगे। उनकी भाव यात्रा करवाई जाएगी। इसमें जैन पाठशाला के बच्चे भी नृत्य-नाटिका की प्रस्तुत देंगे। इन 3 दिनों में 14 राज लोक के भूगोल का विस्तृत रूप से विवेचन किया जाएगा। इसमें लकी ड्रा का आयोजन भी होगा।

आयोजन के तृतीय भाग में पंचमी के दिन अधिष्ठायक देव मणिभद्र वीर का 27 जोड़ों के साथ बाहर से आए हुए विधि कारक एवं संगीतकारों के द्वारा विशिष्ट अनुष्ठान सहित हवन होगा। यह दिन मणिभद्र वीर का प्राकट्य दिवस भी है। आयोजन के चतुर्थ भाग में छठे दिन जैन पाठशाला के बच्चों द्वारा रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किया जाएंगे। आयोजन के अंतिम एवं पांचवे भाग में नौ दिनी 45 आगम परिचय वाचना का आयोजन होगा।

यह आयोजन नगर में प्रथम बार होने जा रहा है। इसमें प्रतिदिन पांच आगम ग्रंथ जो तीर्थंकर परमात्मा की मूल वाणी का संकलन है। जिसे जैन धर्म का प्राण भी कहा जाता है का वाचन आचार्य के मुखारविंद से होगा। इसमें जैन धर्म के मूल सिद्धांतों का सूक्ष्म रूप से विवेचन किया जाएगा। सभी आयोजन जैन धर्मशाला निचलावास में होंगे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें