पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आचार्य ऋषभचन्द्रसूरिजी मानवसेवा के मसीहा थे:महापुण्योत्सव का चतुर्थ दिन- प्रभु अभिषेक, महावीर स्वामी महापूजन, आंगी-भक्ति हुई, मुनि पीयुषचन्द्रविजय ने कहा

राजगढ़13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राजगढ़. भगवान का अभिषेक व पूजन करते हुए जैन समाज के सदस्य। - Dainik Bhaskar
राजगढ़. भगवान का अभिषेक व पूजन करते हुए जैन समाज के सदस्य।

आचार्यश्री हमेशा जिनशासन के कार्यों में अग्रणी रहते थे और हमेशा दूर की सोचते थे। मानवसेवा के लिए हमेशा तत्पर रहते थे। आपने अपने जीवनकाल में मोहनखेड़ा महातीर्थ में रोगियों के लिए कई स्वास्थ्य परीक्षण, नेत्र परीक्षण व कई ऑपरेशन शिविर लगवाए और क्षेत्र के कई असहाय लोगों को मदद पहुंचाकर उन्हें लाभांवित किया। राजगढ़ नगर में मानवसेवा चिकित्सालय की स्थापना करके राजगढ़ वासियों के साथ आस पास के जरूरतमंद लोगों को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाई।

महापुण्योत्सव के चौथे दिन मुनि पीयूषचन्द्रविजय ने यह बात कही। उन्हाेंने कहा कि मोहनखेड़ा महातीर्थ के राजेन्द्रसूरि चिकित्सालय में सभी प्रकार की जांच सुविधा, ऑपरेशन सुविधा, डायलेसिस की चार मशीनें उपलब्ध करवाकर क्षेत्र के मरीजों को लाभांवित किया। आचार्यश्री ने कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए प्रशासन से चर्चा करके मोहनखेड़ा महातीर्थ में कोविड का 300 बिस्तर वाला चलित अस्पताल शुरू करवाकर क्षेत्र की जनता को लाभांवित किया।

ऐसे गुरुदेव को हम बार बार नमन करते हैं। मोहनखेड़ा महातीर्थ में चातुर्मासार्थ विराजित पीयूषचन्द्रविजय आदि ठाणा एवं साध्वीवृंद को क्षमायाचना करने के लिए बड़नगर एवं टांडा श्रीसंघों का आगमन हुआ। टांडा श्रीसंघ के सदस्यों ने शत्रुंजय अवतार प्रभुश्री आदिनाथ भगवान के जिन मंदिर व गुरुदेव राजेन्द्रसूरीश्वरजी के समाधि मंदिर व ऋषभचन्द्रसूरीश्वर के समाधि स्थल पर वंदन किया।

आदिनाथ राजेन्द्र जैन श्वे. पेढ़ी ट्रस्ट की ओर से मैनेजिंग ट्रस्टी सुजानमल सेठ, महाप्रबंधक अर्जुनप्रसाद मेहता, सहप्रबंधक प्रीतेश जैन आदि ने टांडा श्रीसंघ से आनंदीलाल डुंगरवाल, सागरमल चौधरी, राजेन्द्र लोढ़ा, सुरेश कोठारी, राजेन्द्र श्रीश्रीमाल, पारस हरण आदि का बहुमान किया ।

खबरें और भी हैं...