पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Dewas
  • Due To Lack Of Labor Pain, The Woman Returning Home From The Hospital Got Pain On The Way, Gave Birth To A Son Under The Guise Of A Sari On The Road

MP के देवास में सड़क पर हुई डिलीवरी:लेबर पेन नहीं होने पर अस्पताल से लौट रही महिला ने रोड पर दिया बच्चे को जन्म, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने कराई डिलीवरी

देवास4 दिन पहले
महिलाओं ने सड़क किनारे एक घर के सामने डिलीवरी करवाई गई।

देवास में सड़क किनारे साड़ी की आड़ में महिला की डिलीवरी कराई गई। सोमवार से अस्पताल में भर्ती महिला को एक दिन तक लेबर पेन नहीं हुआ, तो पति के साथ मंगलवार को वह घर वापस जा रही थी। घर से कुछ दूर पहले उसे दर्द उठा, जिसके बाद आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका, दाई और कुछ महिलाओं ने साथ मिलकर डिलीवरी करवाई। डिलीवरी के बाद पति जच्चा-बच्चा को हाथ ठेले पर लेटाकर घर ले जाने लगा। इसी दौरान एंबुलेंस आई और दोनों को अस्पताल ले गई।

शिवनगर की रहने वाली पेपाबाई पति मुकेश सोमवार को जिला अस्पताल में भर्ती हुई थी। उसे लेबर पेन नहीं हो रहा था, तो इस पर अस्पताल स्टाफ ने कह दिया कि अभी डिलीवरी का समय नहीं है। इसके बाद महिला पति के साथ सुबह छुट्‌टी करवाकर घर जाने लगी। घर से कुछ दूर पहले ही उसे दर्द शुरू हो गया। पति उसे वापस अस्पताल लेकर जाने के लिए मुड़ा, लेकिन उसकी हालत ऐसी नहीं थी कि अस्पताल तक पहुंच पाती।

ऐसे में मुकेश ने त्रिलोकनगर में मौजूद कुछ महिलाओं से मदद मांगी। महिलाओं ने बीच रास्ते में ही साड़ी लपेटकर डिलीवरी करवाने की तैयारी की। इसकी जानकारी टीकाकरण का काम कर रही आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कल्पना पवार को लगी, तो वह दाई के साथ आ गई। इसके बाद एंबुलेंस को बुलाकर आंगनवाड़ी कार्यकर्ता ने फिर जच्चा-बच्चा दोनों को अस्पताल भिजवाया।

एंबुलेंस से महिला और बच्चे को अस्पताल लेकर जाया गया।
एंबुलेंस से महिला और बच्चे को अस्पताल लेकर जाया गया।

मुकेश ने बताया कि पत्नी को डिलिवरी के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया था। उसे हल्का दर्द भी हो रहा था। पता चला कि अभी समय नहीं आया है, तो छुट्‌टी करवाकर घर ले जा रहा था। रास्ते में डिलिवरी हुई। बेटा हुआ है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कल्पना पवार ने बताया कि पेपाबाई दो दिन से अस्पताल में भर्ती थी। उसे आशा कार्यकर्ता ने भर्ती करवा दिया था। नवजात पूरी तरह स्वस्थ्य है।

ठेले में बिठाकर महिला को लाया गया।
ठेले में बिठाकर महिला को लाया गया।

जिला अस्पताल सिविल सर्जन डॉ. विजय कुमार का कहना है कि ड्यूटी पर जो डॉक्टर और नर्स रहते हैं, वही तय करते हैं कि डिलीवरी में कितना समय बचा है। पेशेंट को घर भेजना है या भर्ती करना है। उनसे बातचीत के आधार पर हम जांच करेंगे। अगर कोई दोषी पाया जाएगा, तो उसके खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...