बेटी की हत्या पर ससुर का अजीब बयान:ससुर बोले- बड़ी अमावस पर कोई ईश्वरीय शक्ति ने ही दामाद से ऐसा काम करवाया होगा..

देवास21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दिवाली की शॉपिंग के लिए निकलने के बाद पत्नी की कार में हत्या कर टीचर द्वारा सुसाइड करने के मामले से हर कोई स्तब्ध है। बेटी की हत्या पर पिता कृष्णकांत मंडलोई ​​​​​​ ने कहा कि दीपावली के दिन शाम 5 बजे तक सब कुछ ठीक था। बेटी अलका से भी चर्चा हुई, दामाद से भी उनके फोन पर कुछ देर बात हुई, लेकिन शाम के समय अचानक दोनों के बीच क्या हुआ, यह कोई नहीं जानता। गौरतलब है कि दिवाली की रात को देवास बायपास विजयागंज मंडी सर्विस रोड पर पुलिस काे कार में दंपती का शव मिला था। इनकी पहचान 38 साल के टीचर चंद्रशेखर पुत्र अंबाराम और पत्नी अलका निवासी मक्सी के रूप में हुई थी।

16 सितंबर को खरीदी थी नई कार
ससूर ने बताया कि 16 सितंबर को ही दामाद चंद्रशेखर ने नई कार खरीदी थी। वह प्राथमिक स्कूल रणायर में टीचर था। दीपावली के पहले धनतेरस के दिन अपनी पत्नी के लिए कुछ जेवरात सहित एक आटा चक्की भी खरीदी थी। दोनों के बीच मधुर संबंध भी थे, लेकिन दीपावाली के दिन अचानक क्या हुआ, परिवार में यह किसी को नहीं मालूम।

बेटा तुषार धनतेरस पर ही निकल गया था
मृतक चंद्रशेखर का 14 साल का बेटा तुषार जो निजी स्कूल में पढ़ता है। दीपावली की छुट्टी लगते ही वह अपने नाना के साथ धनतेरस के दिन गांव पाल्ड्या पहुंचा था।

चंद्रशेखर जिद्दी था
ससुराल पक्ष के लोगों ने बताया कि दामाद चंद्रशेखर कुछ जिद्दी स्वभाव के थे। कुछ समय पहले तक वह धार जिले में पदस्थ थे। उसके बाद उनका स्थानांतरण देवास जिले के रणायर हो गया था। दावा किया जा रहा था कि चंद्रशेखर को बाहर बाधा की भी समस्या थी। ससुर ने बताया कि दामाद को बाहरी बाधा की समास्या थी, जिसके लिए उनका उपचार भी करवाया गया था। बड़ी अमावस्या के दिन कोई ईश्वरीय शक्ति ने उनसे ऐसा काम करवाया होगा।

खबरें और भी हैं...