लाॅकडाउन का असर / ईद पर पहली बार मसजिदों के बजाय घर-घर में नमाज पढ़ेगा बाेहरा समाज

X

  • सैयदना आली कदर मुफद्दल सैफुद्दीन साहब के आदेश पर बच्चाें ने घराें में पढ़ा 30वां सिपारा

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 06:10 AM IST

देवास. दाउदी बाेहरा समाज के शुक्रवार काे 30 राेजे पूरे हाेने पर शनिवार काे पहली बार मसजिदों के बजाय घर-घर में नमाज अदा कर ईद-उल फितर का पर्व मनाएंगे। पर्व की तैयारी हर घर में चल रही, जिसके चलते घराें काे विशेष कर सजाया गया है। इससे पहले शुक्रवार शाम काे सैयदना आली कदर मुफद्दल सैफुद्दीन साहब के निर्देश पर पूरे मुल्क में शाम के समय 9  से 14 साल की उम्र के बच्चाें ने कुरआन शरीफ का 30वां पारा पढ़ा। समाज में इस तरह का यह पहला धार्मिक आयाेजन हुआ तब बच्चाें ने सिपारा पढ़ा है। 

बाेहरा समाज के प्रवक्ता जाकीर नजमी ने बताया, प्रशासन के निर्देशाें का पालन करते हुए समाज का काेई भी व्यक्ति घर से बाहर पर्व मनाने के लिए नहीं जाएगा और ना ही समाज में एक-दूसरे के घर में जाकर गले मिलकर मुबारकबाद देगा। महामारी के चलते पर्व सादकी के साथ मनाया जाएगा। पर्व की बधाईयां दूरभाष के माध्यामाें और इंटरनेट के जरिए दी जाएगी। एक-दूसरे काे वीडियाे काॅल कर, एसएमएस कर और बात कर बधाईयां दी जाएंगी। आमील साहब शेख हैदर अली व सचिव अली अजगर भाई नदीम ने समाजजनाें काे ईद पर्व की अग्रीम मुबारकबाद देते हुए घराें में रहकर पर्व मनाने की अपील की है, जिससे कि इस महमारी के प्रकाेप से बचा जा सके। 

शहरकाजी ने भी की मुस्लिम समाज से भी घराें में ईद पर्व मनाने की अपील
शहरकाजी अबुल कलाम फारूखी ने मुस्लिम समाज से ईद का पर्व अपने-अपने घराें में सादगी के साथ मनाने की अपील की है। शहरकाजी ने बताया, अगर शनिवार काे चांद दिखता है ताे ईद रविवार काे और रविवार काे दिखेगा ताे साेमवार काे ईद का पर्व मनाया जाएगा। काेराेना महामारी में प्रशासन का सहयाेग करते हुए मुस्लिम भाइयों ने इस बार बाजार में ईद की खरीदारी नहीं की है। जिनकी आर्थिक स्थिति अच्छी है, वह अपने पड़ाेसियाें की मदद कर ईद पर्व मनाएंगे। किसी भी ईदगाह और मस्जिद में ईद की नमाज नहीं हाेगी। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना