पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Dewas
  • In Order To Maintain The Availability Of Beds In Hospitals Due To Increasing Patient, Low Risk Patients Are Being Done

संक्रमण की स्पीड चाैगुना:मरीज बढ़ने से अस्पतालाें में बेड की उपलब्धता बनाए रखने के लिए कम जाेखिम वाले मरीजाें काे हाेम आइसाेलेशन किया जा रहा

देवास8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • काेराेना मरीज 1000 पार पहले 500 मरीजाें में लगे 4 महीने, अगले 500 में सिर्फ एक महीना

लाेगाें ने धीरे-धीरे काेराेना संक्रमण काे हल्के में लेना शुरू कर दिया है और यही कारण है कि संक्रमण की स्पीड चाैगुना हाे गई है। कुल मरीजाें का आंकड़ा मंगलवार काे 1000 हाे गया। पहले 500 मरीज 9 अप्रैल से 12 अगस्त यानी लगभग 4 महीने में निकले थे, अगले 500 मरीज 13 अगस्त से 15 सितंबर के बीच यानी लगभग एक महीने में मिल गए हैं। इतना ही नहीं, पहले मरीजाें में लक्षण कम दिख रहे थे लेकिन अब जाे मरीज आ रहे हैं, वे गंभीरावस्था में अस्पताल पहुंच रहे हैं। इससे माैतें भी बढ़ रही हैं। पहले हर मरीज काे अस्पताल में बेड मिल रहा था लेकिन अब जितने बेड हैं, उससे ज्यादा एक्टिव मरीज हाेने से कम जाेखिम वाले मरीजाें काे हाेम आइसाेलेशन में रखा जा रहा है, ताकि गंभीर रूप से बीमार मरीजाें काे बेड मिल सके। लगातार बिगड़ते हालात काे देखते हुए काेविड 19 सेंटर अमलतास हाॅस्पिटल के सीईओ डाॅ. जगत रावत ने एक वीडियाे जारी कर कहा है कि लक्षण दिखते ही फीवर क्लिनिक पर पहुंचे। देर ना करें। घरेलू इलाज में समय बर्बाद करने से ही मरीज गंभीरावस्था में पहुंच रहा है। उधर, कलेक्टर चंद्रमाैली शुक्ला ने भी एक वीडियाे के जरिए अपील की है कि सरकार ने चाहे

यूं बढ़ रहा काेराेना

  • 9 अप्रैल से 16 जुलाई : 3 महीने 7 दिन में पहले 300 मरीज आए
  • 17 जुलाई से 12 अगस्त : अगले 200 मरीज मिले
  • 13 अगस्त से 15 सितंबर : एक महीने 2 दिन में 500 मरीज मिल गए

11 बेड का काेविड आईसीयू नहीं हुआ तैयार

जिला अस्पताल में 11 बेड का काेविड आईसीयू अब तक तैयार नहीं हुआ है। आईसीयू वार्ड जिला अस्पताल में पिछले एक महीने से बनाया जा रहा है। सिविल सर्जन डाॅ. अतुल बिडवई ने बताया मंगलवार को बेड फिटिंग किए जा रहे थे, फिर पांच वेंटिलेटर लगाए जाएंगे। कोविड आईसीयू वार्ड मे 11 बेड है। जल्द शुरू कर देंगे।

अस्पतालाें में बेड की मारामारी शुरू
जिला अस्पताल में 60 बेड हैं। अमलतास हाॅस्पिटल से सरकार ने चार जिले देवास, उज्जैन, शाजापुर व आगर-मालवा के लिए 300 बेड का अनुबंध किया हुआ है। इसमें से जिले के मरीज के लिए लगभग 100 बेड हैं। यानी गंभीर मरीजाें के लिए करीब 160 बेड उपलब्ध हैं। मंगलवार काे जिले में एक्टिव मरीजाें की संख्या 196 थी। पहले की तरह हर मरीज काे अस्पताल में भर्ती किया जा रहा हाेता ताे संकट खड़ा हाे जाता लेकिन सरकार ने हाेम आइसाेलेशन चालू कर दिया है। इसमें पहले ताे उन मरीजाें काे हाेम आइसाेलेशन में रखा जा रहा था, जिन्हें लक्षण नहीं थे। अब कम जाेखिम वाले मरीजाें काे भी हाेम आइसाेलेशन में भेजा जा रहा है, ताकि बेड की उपलब्धता बनी रहे।

डाॅक्टर ने वीडियाे में कहा-8वें से 12वें दिन व्यक्ति क्रिटिकल हाे सकता है, उसके पहले ही दिखाएं अमलतास हाॅस्पिटल के डाॅ. जगत रावत ने मंगलवार काे एक वीडियाे जारी किया, उन्हाेंने कहा दाेस्ताें, गंभीर मरीजाें की संख्या बढ़ रही है। इसका कारण देरी से आना है।

हम चार जिलाें के मरीजाें का इलाज कर रहे हैं। इसमें यह तथ्य निकल कर आ रहा है कि लक्षण आते ही हम अस्पताल पहुंच जाएं, वायरस लगने पर शुरुअात में ही इलाज शुरू हाे जाए ताे गंभीर अवस्था में जाने से बचा जा सकता है। घरेलू इलाज करने के बजाय तुरंत फीवर क्लिनिक में, सरकार अस्पताल में, रजिस्टर्ड प्राइवेट डाॅक्टर काे दिखाएं।

अस्पताल जाएंगे ताे ऐसा हाेगा, वैसा हाेगा, असुविधा हाेगी। आप अपनी जिंदगी के बारे में साेचिए। वायरस लगने से 8वें से 12वें दिन व्यक्ति क्रिटिकल हाे सकता है। उसके पहले ही अस्पताल पहुंचेंगे ताे परेशानी से बच सकते हैं।

एक संकट यह भी
गालीगलाैच के कारण 50 स्वास्थ्यकर्मी छाेड़ चुके हैं जाॅब
काेराेना काे लेकर साेशल मीडिया पर कई प्रकार की अफवाहें वायरल हाे रही हैं। इससे अस्पतालाें में इलाज, व्यवस्थाओं काे लेकर मरीज के परिजन द्वारा स्वास्थ्यकर्मियाें से अभद्रता की घटनाएं बढ़ गई हैं। यही वजह है कि अब स्वास्थ्यकर्मियाें का भी संकट खड़ा हाे रहा है। पिछले कुछ दिनाें में अमलतास हाॅस्पिटल से ही तकरीबन 50 लाेग जाॅब छाेड़ चुके हैं। कुछ खाली पाेस्ट पर दूसरे लाेगाें काे रखा गया है।

कलेक्टर बोले-
काेराेना से बचाव सरकार की ही नहीं, हमारी व्यक्तिगत जिम्मेदारी भी
कलेक्टर चंद्रमाैली शुक्ला ने एक वीडियाे में कहा-लाॅकडाउन खत्म हाे गया है लेकिन वायरस नहीं। संक्रमण बढ़ गया है। किसी जगह जाने की राेक नहीं है। काेराेना से बचाव सरकार की ही नहीं, हम सबकी व्यक्तिगत जिम्मेदारी भी है। लाेग सामाजिक रूप से बचाव के निर्णय लें। मास्क लगाएं, साेशल डिस्टेंस अपनाएं।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय पूर्णतः आपके पक्ष में है। वर्तमान में की गई मेहनत का पूरा फल मिलेगा। साथ ही आप अपने अंदर अद्भुत आत्मविश्वास और आत्म बल महसूस करेंगे। शांति की चाह में किसी धार्मिक स्थल में भी समय व्यतीत ह...

और पढ़ें