काेराेना बेकाबू:आज से 7 मई तक टाेटल लाॅकडाउन, तीन घंटे की छूट भी नहीं देंगे

देवास6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एक दिन पहले से ही शुरू हाे गई 
थी टाेटल लाॅकडाउन की तैयारी। - Dainik Bhaskar
एक दिन पहले से ही शुरू हाे गई थी टाेटल लाॅकडाउन की तैयारी।
  • जिला आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में लिया निर्णय, विधायक बोलीं-टोटल लॉकडाउन के अलावा कोई विकल्प नहीं

काेराेना बेकाबू हाे रहा है। हालात ठीक नहीं है। दिनाें-दिन केस बढ़ रहे हैं। मरीजाें की संख्या कम नहीं हाे रही है। अस्पतालाें में बेड भरे पड़े हैं। काेराेना की चेन ताेड़ने 9 अप्रैल से लाॅकडाउन लगाया गया था, जिसमें तीन घंटे की ढील दी जा रही थी, पर इन तीन घंटाें में बाजार में इतनी भीड़ उमड़ रही थी कि संक्रमण की आंशंका बनी हुई थी, इस स्थिति काे देखते हुए बुधवार काे प्रशासन ने टाेटल लाॅकडाउन के आदेश जारी कर दिए हैं।

अब 7 मई तक जिलेभर में टाेटल लाॅकडाउन रहेगा, तीन घंटे की जाे छूट दी जा रही थी वह भी अब नहीं रहेगी, ताकि काेराेना की चेन काे ताेड़ा जा सके। कलेक्टाेरेट के सभाकक्ष में जिला आपदा प्रबंधन की बैठक में यह निर्णय लिया गया है। हालात यह हैं कि जिला अस्पताल में काेविड वार्ड के सभी बेड काेराेना के मरीजाें से भरे पड़े हैं। एमजीएच के नर्सिंग काॅलेज में एक काेविड वार्ड बनाया गया था, वह भी मरीजाें से फुल हाे गया है। अमलतास अस्पताल में भी जगह नहीं है, इतने मरीज हैं। शहर के सभी निजी अस्पतालाें में भी यही हाल हैं।

इसके अलावा सुबह से लेकर देर रात तक निजी क्लीनिकाें और मेडिकल स्टाेर्स, सीटी स्कैन सेंटराें पर भी मरीजाें की लाइन लगी रहती है। बढ़ रहे मरीजाें की संख्या के कारण ऑक्सीजन की पूर्ति नहीं हाे पा रही है। संसाधन कम पड़ रहे हैं। लगातार इलाज करके डाॅक्टर भी पाॅजिटिव हाे रहे हैं।

इन तमाम हालात काे देखते हुए कलेक्टर चंद्रमाैली शुक्ला ने बैठक में तय हाेने के बाद पूर्व में जारी आदेश में संशोधन करते हुए टाेटल लाॅकडाउन के आदेश जारी कर दिए हैं।

आज से हम सख्ती करेंगे, लाेगाें से अपील है बहुत जरूरी हाे ताे ही घर से बाहर निकलें, अन्यथा घर में ही रहें : एसपी

नए आदेश में ये किए फेरबदल
देवास जिले में 7 मई सुबह 6 बजे तक पूर्णत: कोरोना कर्फ्यू रहेगा लागू
धार्मिक, सामाजिक, राजनीतिक, सार्वजनिक, सांस्कृतिक एवं शैक्षणिक कार्यक्रम रहेंगे वर्जित
सब्जी/फलआदि का विक्रय केवल हाथठेला गाड़ी के माध्यम से घर-घर जाकर सुबह 7 बजे से सुबह 10 बजे तक किया जा सकेगा
दूध का विक्रय केवल घर-घर जाकर सुबह 6 से सुबह 8 बजे तक एवं शाम 6 बजे से 8 बजे तक किया जा सकेगा।
खेरची विक्रय पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा।
इलाज करवाने की रहेगी छूट
केमिस्ट, अस्पताल, नर्सिंग होम एवं पैथालॉजी, एक्स-रे, सोनोग्राफी, सीटी स्केन सेंटर को प्रतिबंध में छूट रहेगी।
शादी एवं वैवाहिक कार्यक्रम में सम्मिलित व्यक्तियों की संख्या 10-10 से अधिक नहीं। कार्यक्रम की पूर्वानुमति क्षेत्र के एसडीएम से लेना आवश्यक होगी।
अंतिम संस्कार में केवल 10 व्यक्ति ही शामिल हो सकेंगे।
लोक परिवहन जैसे बस, मैजिक, ऑटोरिक्शा आदि पूर्णत: प्रतिबंधित रहेंगे।
मरीजों का परिवहन करने वाले ऑटो रिक्शा को छूट रहेगी। शेष आदेश यथावत रहेगा।

बुधवार सुबह से ही शुरू हाे गई थी सख्ती, दिनभर चलती रही चेकिंग, एसपी रहे माैजूद

शहर में बुधवार सुबह से ही सख्ती शुरू हाे गई थी। सभी चाैराहाें पर पुलिस तैनात थी। शहर के प्रवेश मार्गाें पर भी चेकिंग प्वाइंट लगाकर दिनभर आने जाने वाले वाहनाें से पूछताछ की जाती रही। शाम काे सयाजी द्वार पर एसपी सिंह चैकिंग के दाैरान माैजूद रहे।

उन्हाेंने प्रयाेग के ताैर पर अधीनस्थाें काे निर्देश दिए कि बीस वाहनाें काे क्रम से राेकाे, उनसे आने जाने का कारण पूछाे, जब ऐसा किया गया ताे बीस में से 18 लाेग ऐसे निकले, जाे या ताे अस्पताल जा रहे थे या दवाएं लेने मेडिकल जा रहे थे। दाे लाेग दूसरे काम से बाहर निकले थे। इधर, बाजार में जगह-जगह बैरिगेट्स लगा दिए गए हैं।

खबरें और भी हैं...