पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना ने उजाड़ा परिवार:देवास के गर्ग परिवार की बड़ी बहू का भी काेराेना से निधन, 18 दिन में घर के 5 सदस्य दम तोड़ गए

देवास14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सास, जेठ और पति की काेराेना से माैत के कारण छाेटी बहू ने लगा ली थी फांसी। (रितु गर्ग) - Dainik Bhaskar
सास, जेठ और पति की काेराेना से माैत के कारण छाेटी बहू ने लगा ली थी फांसी। (रितु गर्ग)

अग्रवाल समाज देवास के अध्यक्ष बालकिशन गर्ग की बड़ी बहू रितु (45) साल का रविवार काे निधन हाे गया। पिछले कुछ दिनों में उनके परिवार में यह पांचवीं माैत है। इससे ठीक 12 दिन पहले छाेटी बहू रेखा ने फांसी लगा ली थी। वे अपनी सास, जेठ और पति की काेराेना से माैत हाेने के कारण सदमे में थीं। उसके बाद से बड़ी बहू की तबीयत भी खराब चल रही थी। आठ दिन पहले उन्हें इंदाैर के एक निजी अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां उनका इलाज चल रहा था। रविवार सुबह करीब 8 बजे उनका निधन हाे गया। रितु के एक बेटा और एक बेटी है।

दुखाें का वज्रपात... बुजुर्ग दादा और मासूम बच्चे ही बचे

मैनाश्री नगर में रहने वाले इस गर्ग परिवार पर दुखाें का वज्रपात हुआ है। सबसे पहले रेखा की सास चंद्रकला देवी की तबीयत बिगड़ने पर उन्हें शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां उनका काेराेना का इलाज चल रहा था। 14 अप्रैल काे उनका निधन हाे गया। इसी बीच रेखा के जेठ संजय गर्ग की तबीयत बिगड़ी, उनकी रिपाेर्ट पाॅजिटिव आई। उन्हें भी शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती किया गया। इसी दाैरान रेखा के पति स्वप्नेश गर्ग भी काेराेना की चपेट में आ गए।

दाेनाें भाइयाें की तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर इंदाैर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। 19 अप्रैल काे संजय की माैत हाे गई। अगले दिन स्वप्नेश भी नहीं रहेे। उसके दाे दिन बाद 21 अप्रैल काे छाेटी बहू रेखा ने सदमे में फांसी लगा ली और अब बड़ी बहू का निधन हाे गया। अब परिवार में दादा बालकिशन गर्ग और चार छोटे बच्चे ही बचे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें