पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

11 कराेड़ 92 लाख के बिल जारी:बिजली कंपनी ने पहले दाे माह की रीडिंग के बिल दिए उपभाेक्ताओं काे

देवासएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिविर में बिजली कंपनी अधिकारी-कर्मचारी बिलाें में कर रहे सुधार। - Dainik Bhaskar
शिविर में बिजली कंपनी अधिकारी-कर्मचारी बिलाें में कर रहे सुधार।
  • जून में शहर के 11 कराेड़ 92 लाख के बिल जारी, 5 कराेड़ 47 लाख उपभाेक्ताओं ने किए जमा

उपभाेक्ताओं काे एक साथ दाे माह की रीडिंग लेकर हजाराें के बिजली बिल जारी करना विद्युत वितरण कंपनी के लिए सिरदर्द बन गया है। शहर के सीनियर, जूनियर,औद्याेगिक और सिविल लाइन जाेन पर प्रतिदिन उपभाेक्ता बढ़े हुए बिल लेकर सुधार के लिए पहुंच रहे हैं। वहीं बिजली कंपनी भी अलग-अलग क्षेत्राें में कैंप लगाकर अधिक रीडिंग वालाें के बिल भी सुधार रही है।

दाे दिन से कैंप लगाने से अब कार्यालयाें में लाेगाें की संख्या कम हाेने लगी है। शहर के अधिकतर क्षेत्र में जून माह में आए बिजली बिलाें की अंतिम तारीख निकलने पर उन्हें पेनल्टी के साथ जमा करना पड़ रहे हैं। अब तक 52 फीसदी ही लाेग बिजली बिल जमा करवा सके हैं।

तारीख निकली, अब तक 52 फीसदी लाेगाें ने ही जमा किए बिल
हजाराें के बिल जारी हाेने पर कई उपभाेक्ताओं के द्वारा अंतिम तारीख निकलने के बाद भी बिल जमा नहीं किया है। लाॅकडाउन की वजह से काम-काज बंद हाेने से कुछ लाेगाें के पास बिल जमा करने का पैसा भी नहीं है। शहरी क्षेत्र के 70 हजार उपभाेक्ताओं के 11 कराेड़ 92 लाख रुपए के बिल जारी किए थे, जिसमें से 5 कराेड़ 47 लाख का गुरुवार तक भुगतान हाे चुका था।

बिल जमा करने की अंतिम तारीख निकल जाने के बाद भी 48 फीसदी लाेगाें ने इस माह बिल जमा नहीं किया है। दस दिन बाद फिर से रीडिंग लेने का काम शुरू हाेकर जुलाई में बिल जारी हाे जाएंगे। जिन लाेगाें ने बिल जमा नहीं किए, उनके बिलाें में बकाया राशि जुड़कर फिर से हजाराें के बिल आएंगे। बढ़े हुए बिलाें में भुगतान हाेना संभव नहीं है।

किराया 1500 बिल 1776 का
शहर जूनियर जाेन पर बढ़े हुए बिल में सुधार करवाने के लिए आए शिवशंकर ने बताया, मैं ओम साईं विहार काॅलाेनी में 1500 रु. किराए पर रहता हूं। इस माह बिजली का बिल 1700 आया है। मई में बिल 105 रु. का आया था। प्रकाश चाैहान ने बताया, पिछले माह 136 रु. बिल आया था। इस माह 2186 का आया है। बिल दिखाया ताे अधिकारी बोले गर्मी में अधिक खपत हाेने से बिल में सुधार नहीं हाेगा।

परेशानी कर रहे दूर
चाराें जाेन में अलग-अलग शिविर लगाकर उपभाेक्ताओं के बढ़े हुए बिजली बिल की परेशानियाें काे दूर किया जा रहा है। मीटर की रीडिंग भी चेक कर रहे, जिससे हकीकत सामने आ जाए।- सतीश कुमरावत, शहर कार्यपालन यंत्री

खबरें और भी हैं...