पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Dhar
  • 151 Trees Of 50 Species Were Planted By Making Herbal Garden, 126 Years After Taking Care Of Three Years, Now Become Seven Feet

पर्यावरण संरक्षण:हर्बल वाटिका बनाकर 50 प्रजाति के 151 पाैधे लगाए थे, तीन साल की देखभाल से 126 पाैधे अब सात फीट के हुए

बिड़वाल20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बिड़वाल. गाेशाला में लगाए गए पाैधाें काे युवा समय-समय पर टैंकर से दे रहे पानी। क्योंकि आठ माह तक बोरिंग से पानी मिल जाता है लेकिन गर्मी में होती है परेशानी। - Dainik Bhaskar
बिड़वाल. गाेशाला में लगाए गए पाैधाें काे युवा समय-समय पर टैंकर से दे रहे पानी। क्योंकि आठ माह तक बोरिंग से पानी मिल जाता है लेकिन गर्मी में होती है परेशानी।
  • आजाद ग्रुप के युवाओं ने श्रीकृष्ण गाेशाला में की थी पहल, अब समय-समय पर खाद, पानी देकर सफाई भी करते हैं

नगर के आजाद ग्रुप के युवाओं ने तीन साल पूर्व श्री कृष्ण गाेशाला में हर्बल वाटिका तैयार की थी। इसमें नवगृह और पंचवटी सहित नीम, पीपल, आम, जाम, नारियल सहित 50 प्रजाति के 151 पौधे लगाए थे। समय के साथ कुछ पौधे तो नष्ट हो गए मगर वर्तमान में 126 पाैधे जीवित हाेकर अब सात फीट के हाे गए थे।

ग्रुप के युवा समय-समय पर खाद, पानी देकर खरपतवार की साफ-सफाई भी कर रहे। वर्तमान में ग्रुप में पांच सदस्य हाेकर गर्मी के दिनाें में चार किमी दूर से पानी लाकर पाैधाें काे दे रहे। ग्रुप के सचिव दिलीप चौधरी और सुरेश डोलिया ने बताया जब पाैधारोपण किया था तब ग्रुप के 20 से अधिक साथियों ने इन्हे बड़ा करने का भी संकल्प लिया था। मगर समय के साथ संकल्प लेने वाले साथी कम हो गए। प्रतिमाह पौधों के आसपास की खरपतवार साफ कर खाद व विशेषज्ञों की सलाह पर दवाइयां भी देते है।

आठ माह तक गाेशाला में स्थित बाेरिंग से पानी की व्यवस्था होती है मगर गर्मी में बाेरिंग सूखने से 4 किलोमीटर दूर से टैंकर से पानी लाकर पौधों को देते है। इसके लिए सुरेश डोलिया ट्रैक्टर-टैंकर और महेश ओमप्रकाश डोलिया नि: शुल्क पानी उपलब्ध कराते है।

ग्रुप के युवाओं ने गत वर्ष लगे लाॅकडाउन से स्थानीय चार मजदूरों काे भी राेजगार दिया। क्याेंकि इन लाेगाें की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी। गांव में राेजगार नहीं मिलने से ग्रुप के युवाओं ने स्वयं के खर्च पर मजदूरी का भुगतान करते है। हालांकि ग्रुप के युवा स्वयं श्रमदान कर पाैधाें की देखभाल व साफ-सफाई करते है। ग्रुप के दिलीप चौधरी, मनोज मिस्त्री, विनोद भादविया, गट्टूसिंह चौहान, राजेश डोलिया पाैधों की देखभाल करते है।

और... ग्रुप के युवा समितियाें व लाेगाें काे करते हैं सम्मानित
आदर्श ग्रुप के युवा पेड़-पौधे और पर्यावरण के महत्व को समझते हुए अन्य लोगों को भी एक-एक पौधा लगाकर उसे बड़ा करने के लिए प्रेरित करते है। जो पेड़ पौधे लगाकर उनकी देखभाल कर रहे है उन लाेगाें काे पुरस्कृत भी करते है। पौधों की देखभाल करना आसान नहीं होता है।

जैसे हम बच्चाें का लालन-पालन कर उसकी हर जरूरत को उम्र के हिसाब से पूरा करते है उसी प्रकार पौधाें काे भी समय-समय पर जो आवश्यकता रहती है उसे पूरा किया जाता है। पर्यावरणहित में काम करने वाली कानवन, दसई, खुटपल्ला, कड़ाेदकलां की समितियाें सहित नगर के 7 लाेगाें काे पुरस्कृत कर चुके हैं। तीन साल की मेहनत से गाेशाला में पाैधे बड़े हाे गए हैं।

खबरें और भी हैं...