पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना में भूले दूसरी बीमारी:मुफ्त टीके के लिए 4500 रु. खर्च किए, दो दिन बच्ची को दूध नहीं पिला पाई मां

धार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिला अस्पताल में 6 माह बाद पहुंचे हेपेटाइटिस-बी के 10 टीके, जरूरत दोगुने की

जिला अस्पताल में 6 महीने से हेपेटाइटिस बी के वैक्सीन ही नहीं थे। 4 सितंबर काे यहां टीके पहुंचे लेकिन मात्र दस। वैक्सीन नहीं हाेने से एक मां अपने नवजात शिशु काे दाे दिन तक दूध नहीं पिला पाई। जिम्मेदाराें की लापरवाही का अालम यह है कि अफसराें तक वैक्सीन के स्टाॅक की जानकारी पहुंची ही नहीं। लाेगाें काे निजी खर्च से इंदाैर या अन्य जगह से खरीदना पड़े। गाैरतलब है कि जिलेभर से 180 से 200 प्रसूति के रैफर केस धार आते हैं, इनमें 8 से 10 हेपेटाइटिस बी पाॅजिटिव हाेते हैं। ऐसे में पाॅजिटिव मां से बच्चे काे भी बीमारी लग सकती है। अस्पताल प्रबंधन ने गत 6 महीने में जानकारी भी नहीं ली। क्याेंकि शिशुओंं काे यह टीके लगे ही नहीं।

सागाैर निवासी गाेपाल बागवान ने बताया पत्नी हेपेटाइटिस-बी पाॅजिटिव अारती बागवान काे 2 सितंबर काे सुबह करीब 8 से 9 बजे के बीच डिलीवरी के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया था। भर्ती करते समय नर्सिंग स्टाॅफ काे पत्नी को बीमारी से अवगत कराया। स्टाफ ने वैक्सीन उपलब्ध हाेने की बात कही। पत्नी काे भर्ती करा दिया। 2 सितंबर काे ही दाेपहर 1.15 पर आरती ने बच्ची काे जन्म दिया। डिलीवरी के 24 घंटे के भीतर बच्ची काे हेपेटाइटिस बी का टीका लगना था। अचानक नर्साें ने उनके पास टीका नहीं हाेना बताया। इंदाैर में गाेपाल काे यह वैक्सीन 4500 रु. में पड़ा। अाने-जाने का खर्च 2 हजार मिलाकर उन्हें इस टीके के 6500 रु. खर्च करना पड़े। खामी को छिपाने के लिए एक-दूसरे पर ढोल रहे जिम्मेदारी : हेपेटाइटिस-बी वैक्सीन की कमी पर वार्ड इंचार्ज वर्षा जाट ने कहा लाॅकडाउन के बाद अब 10 वैक्सीन आई है। जब उनसे पूछा गया कि उनके यहां अब तक कितने बच्चाें काे हेपेटाइटीस-बी के टीके लगे हैं। ताे एसएनसीयू प्रभारी शिशु राेग विशेषज्ञ डाॅ. मुकुंद बर्मन से बात करने काे कहा। डाॅ. बर्मन ने इससे अनभिज्ञता जताते हुए कहा मुझे जानकारी नहीं है। टीका किसे लगता है, ये भी एसएनसीयू प्रभारी नहीं बता पाए। वो कहते रहे कि महिला को लगता है। जबकि टीका बच्चो को लगाया जाता है। इधर, आरएमओ डाॅ. संजय जाेशी ने बताया प्रतिमाह जिला अस्पताल में जिले से प्रसूति के रैफर केस करीब 150 से 200 हाेते हैं। इनमें 8 से 10 पाॅजिटिव पाए जाते हैं। छह महीने में करीब 800 से 1000 प्रसूति के केस अाए। इनमें करीब 50 पाॅजिटिव मान सकते हैं।

जाने क्युवक काे लाैटाएंगे वैक्सीन की राशि
वैक्सीन खरीदने के लिए हमने बजट आवंटित कराने के लिए भी पत्र भेजा है। कुट टीके मिले हैं, उम्मीद है आगे भी इनकी कमी नहीं आएगी। रही बात, सागोर के युवक की तो, उसने मुझे अवगत कराया है। अधिकारियाें से वैक्सीन की उपलब्धता नहीं हाेने के बारे में वास्तिविकता पता कर रही हूं। निजी खर्च से वैक्सीन खरीदने वाले युवक काे वैक्सीन की राशि लाैटाई जाएगी।
अनुसुईया गवली, सिविल सर्जन, जिला अस्पताल, धार

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज ग्रह स्थितियां बेहतरीन बनी हुई है। मानसिक शांति रहेगी। आप अपने आत्मविश्वास और मनोबल के सहारे किसी विशेष लक्ष्य को प्राप्त करने में समर्थ रहेंगे। किसी प्रभावशाली व्यक्ति से मुलाकात भी आपकी ...

और पढ़ें