पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Dhar
  • 52 Lakh Cattle Market Contract Was Canceled Due To Lockdown, Now The City Council Has Started The Work Of Animal Registration

पंजीयन शुरू:52 लाख में हुआ पशु बाजार का ठेका, लाॅकडाउन लगने से निरस्त हुआ था, अब नगर परिषद ने पशु पंजीयन का काम शुरू किया

राजगढ़12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ठेकेदार से एक लाख रु. मिलते जबकि ठेका निरस्त हाेने से नप काे पिछले बाजार में 60 हजार हुई थी आय

नगर परिषद को पशु पंजीयन से हर वर्ष बड़ी राशि राजस्व के रूप में प्राप्त होती है। प्रत्येक रविवार को नगर के मेला मैदान में लगने वाले पशु बाजार (गुजरी) में धार जिले के विभिन्न गांवाें, नगरों के अलावा झाबुआ, आलीराजपुर, बड़वानी सहित अन्य जिलों के ग्रामीण पशुओं काे खरीदने व बेचने आते हैं। इससे यहां पशुओं का बड़ा कारोबार होता है। कोरोना के कारण लगे लाॅकडाउन एवं अनलॉक के बाद पशु बाजार लगने के बावजूद नगर परिषद को इससे आय प्राप्त नहीं हो रही थी।

करीब 28 सप्ताह बाजार बंद रहने से नप काे 15 लाख रु. की आय का नुकसान उठाना पड़ा। अब जबकि दो सप्ताह से परिषद द्वारा स्वयं ही पशु पंजीयन किया जाकर शुल्क लिया जा रहा है। ऐसे में नप की आय शुरू हाेने लगी है। नप के अनुसार पिछले 28 सप्ताह से पशु पंजीयन का कार्य बंद था। अब पिछले दो बाजार से प्रत्येक रविवार को पशु पंजीयन का शुल्क परिषद द्वारा वसूला जा रहा है।

पिछले रविवार के पशु बाजार से परिषद को 60 हजार रु. मिले थे। इस रविवार भी इससे अधिक राशि परिषद को मिली। हालांकि पशु पालकों द्वारा जून में ही अघोषित रूप से बगैर परिषद की अनुमति के बाजार का संचालन शुरू कर दिया था। लेकिन परिषद द्वारा राजस्व की वसूली नहीं की जा रही थी। परिषद द्वारा प्रतिवर्ष पशु पंजीयन के लिए ठेके की नीलामी की जाती है।

लेकिन इस बार ठेका होने के बाद निरस्त कर दिया था। क्योंकि कोरोना के कारण मार्च से ही लाॅकडाउन होकर साप्ताहिक बाजार बंद हो गए थे। प्रतिवर्ष परिषद द्वारा ठेके की नीलामी करने से 50 लाख रु. से अधिक की आय होती है। साल भर के 52 सप्ताह के लिए उसे 52 लाख रु. कम से कम मिलते।

प्रति सप्ताह 1 लाख रु. औसतन नप को ठेके से प्राप्त होते। 28 सप्ताह तक बाजार नहीं लगने के कारण परिषद को करीब 28 लाख रु. का नुकसान उठाना पड़ा। अब जबकि जिले में चुनावी आचार संहिता लगी हुई है। परिषद द्वारा आचार संहिता समाप्त होने के बाद पुन: करीब 5 माह के लिए ठेके की नीलामी की जाएगी।

प्रतिबंध के बावजूद बाजार में गायें भी लाई जा रही हैं

पशु बाजार में गायों के क्रय-विक्रय पर परिषद द्वारा पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाया है। इसके बावजूद बड़ी संख्या में गायें लाई जा रही। परिषद के कर्मचारी अर्जुन चोयल के अनुसार गायों का पंजीयन नहीं किया जा रहा है। साथ ही बाजार में गायों को नहीं लाने एवं व्यापार नहीं करने के लिए मुनादी भी कराई जा रही।

आगामी बाजार से और सख्ती कर गायों के लाने पर रोक लगाई जाएगी। पूर्व में भी बाजार में गायों को लाने का क्रम जारी होकर अवैध व्यापार होता रहा है। सीएमओ सुरेंद्रसिंह पंवार ने मामले में कुछ भी कहने से इंकार कर दिया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- किसी अनुभवी तथा धार्मिक प्रवृत्ति के व्यक्ति से मुलाकात आपकी विचारधारा में भी सकारात्मक परिवर्तन लाएगी। तथा जीवन से जुड़े प्रत्येक कार्य को करने का बेहतरीन नजरिया प्राप्त होगा। आर्थिक स्थिति म...

और पढ़ें