कोरोना संक्रम:आफत- 27 दिन में ही 3 हजार 731 कोरोना पाॅजिटिव, राहत- 2 हजार 412 ठीक हुए, चिंता... फिर दो की मौत

धार6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिना कारण घूमने वालाें काे राेककर की गई अस्थायी जेल भेजने की कार्रवाई। - Dainik Bhaskar
बिना कारण घूमने वालाें काे राेककर की गई अस्थायी जेल भेजने की कार्रवाई।
  • काेराेना की वैक्सीन लगाने के बाद पाॅजिटिव ताे हुए, लेकिन अस्पताल में भर्ती हाेने की जरूरत नहीं पड़ी, घर पर ही ठीक हाे गए

काेराेना के इस संकट में राहत की खबर यह है कि दूसरी लहर में जितने मरीज मिल रहे हैं। उतने ही ठीक भी हाे रहे हैं। दूसरी लहर में अप्रैल का महीना सबसे घातक साबित हुआ। इस महीने 3 हजार से अधिक मरीज मिले, लेकिन इस बीच अच्छी बात यह भी रही कि इसके मुकाबले 2400 के करीब लाेगों ने काेराेना काे हराया और ठीक हुए।

ऐसे में काेराेना से घबराने वालों के लिए यह संदेश है कि वे संयम रखें। डाॅक्टराें का भी कहना है कि काेराेना हाेने पर घबराएं नहीं, नियमित इलाज लें और जहां तक हाे सकें इम्युनिटी बढ़ाने पर जाेर दें। हाेम्याेपैथी के साथ आयुर्वेदिक दवाइयां और याेग करें। इससे हम काेराेना पर जल्द ही विजय पा पाएंगे। अप्रैल के 27 दिनाें में 3 हजार 731 मरीज मिले। इसके मुकाबले 2 हजार 412 यानी 91.72 प्रतिशत मरीज ठीक भी हुए हैं। मंगलवार तक 173 मरीज और डिस्चार्ज हुए हैं। इसी के साथ जिले में अब तक 6 हजार 702 लाेगाें ने काेराेना काे हराया है। हालांकि माैताें का सिलसिला अभी थमा नहीं है।

बुधवार काे दाे और माैत के साथ इस महीने माैत का आंकड़ा 67 पहुंच गया है। ऐसे में अब भी सावधान रहने की जरूरत है। मंगलवार रात तक 251 केस नए आए हैं। इसी के साथ अब तक कुल 8 हजार 251 लाेग काेराेना से संक्रमित हाे चुके हैं।

खबरें और भी हैं...