पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सफलता:भचियारी की बेटी ने बिना कोचिंग नीट पास की, डॉक्टर बनकर गांवों में देगी सेवा

धार4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कुक्षी तहसील के गांव की निशिता ने इंटरनेट और एनसीआरटी की किताबें से पढ़ाई कर हासिल की सफलता

नीट की परीक्षा उत्तीर्ण करने वालाें में धार जिले के 40 बच्चाें में कुक्षी तहसील के छाेटे से गांव भचियारी की निशिता डावर भी है। सबसे कठिन पढ़ाई मानी जानी वाली परीक्षा निशिता ने बगैर काेचिंग के पास की। उन्हाेंने 720 में से 121 अंक लाकर देश में 31,431वीं रैंक हासिल की है।

निशिता अपने 3 हजार की आबादी वाले गांव व परिवार की पहली बेटी हैं, जिसे भविष्य में विशेषज्ञ डाॅक्टर कहलाने का अधिकार हाेगा। निशिता डॉक्टर बनने के बाद गांवो में लोगों की सेवा करेंगी। निशिता के अलावा धार की अंजू मरावी और तुल्जेश चौहान ने भी नीट की परीक्षा उत्तीर्ण की है।

नितिशा काे यह सफलता एनसीआरटी की किताबें पढ़कर मिली। उनमें नीट की तैयारी करने का जुनून शिक्षिका वैदिका अलंका ने पैदा किया। वे जब 11वीं बायाे की काेचिंग लेने वैदिका के पास जाती ताे तब उन्हाेंने ही नितिशा काे नीट की तैयारी करने का सुझाव दिया। पढ़ाई महंगी हाेने के साथ इसकी कठिनता ही नितिशा के सामने सबसे बड़ी चुनाैती थी। जिसे उन्हाेंने स्वीकारा, पिता खुमान के साथ नीट की पढ़ाई का प्रस्ताव रखा। खेती करके गुजारा करने वाले खुमान ने बेटी काे पढ़ाने के लिए खाता खुलवाया और उसमें रुपए जमा किए।

इंटरनेट से छात्रा ने नीट की तैयारी का आइडिया लिया और स्कूल से एनसीआरटी की किताबें खरीदकर पढ़ना शुरू की। नितिशा ने बताया उनके गांव के लाेग अक्सर बीमार रहते हैं, किसी काे स्कीन समस्या है ताे किसी काे अन्य बीमारी। इन लोगों को परेशान देख उन्हाेंने डाॅक्टर बनने की ठानी। अपने सपने काे साकार करने के लिए उन्हाेंने दिन-रात पढ़ाई की। जिसका परिणाम उन्हें सफलता के रूप में मिला।

पढ़ाई का बहाना बनाकर घरेलू काम से मुंह नहीं माेड़ा

नितिशा के अनुसार उनकी बड़ी बहन यंशिता बड़वानी में रहकर बीटेक कर रही हैं। ऐसे में मां का घर के काम में हाथ बंटाने वाला उनके अलावा और काेई नहीं। ऐसी स्थिति में नितिशा सुबह तीन से चार घंटे पढ़ती, फिर घर के काम में मां का हाथ बंटाती। काम खत्म करने के बाद फिर पढ़ती थी। नितिशा के परिवार में पिता खुमसिंह, माता अर्चना, बड़ी बहन यंशिता और छाेटा भाई हिमांशु हैं।

धार में पुलिस आरक्षक की बेटी अंजू ने सफलता की पहली सीढ़ी पार की

धार में पदस्थ पुलिस आरक्षक जगतसिंह मरावी का सपना पूरा हाेता दिखाई दे रहा है। जगतसिंह की बेटी व शासकीय उत्कृष्ट स्कूल की छात्रा अंजू मरावी ने 720 में से 323 अंक हासिल कर सफलता की पहली सीढ़ी पार कर ली है।

अंजू ने कहा उनके पिता उनसे कहते हैं- काेराेना में डाॅक्टर कम हैं, जल्दी-जल्दी पढ़ाे और डाॅक्टर बनाे। तभी से डाॅक्टर बनने का संकल्प लिया। लाॅकडाउन के दाैरान पिता अपना फर्ज निभाते हैं अाैर मैं पढ़ाई करती हूं। हम दाेंनाे में सुबह सिर्फ एक छाेटी सी मुलाकात ही हाे पाती। मगर अब नीट क्लियर कर उनका सपना पूरा करने के साथ मरीजाें की खूब सेवा करना है।

दादी नर्स रही, पिता जन स्वास्थ्य रक्षक, बेटा तुल्जेश बनेगा डॉक्टर

शासकीय उत्कृष्ट स्कूल के ही छात्र सरस्वती नगर निवासी तुल्जेश चाैहान ने नीट की परीक्षा में 720 में से 125 अंक हासिल किए हैं। तुल्जेश ने बताया उनकी दादी शीला चाैहान नर्स रह चुकी हैं, पिता रितेश चाैहान जन स्वास्थ्य रक्षक हैं। अब उन्हें डाॅक्टर बनना है। तुल्जेश ने बताया कक्षा 10वीं में उन्हाेंने डाॅक्टर बनने की साेच लिया थी। तभी से वे अपना सपना पूरा करने में जुट गए। 12वीं में 84 प्रतिशत अंक हासिल करने बाद उन्हाेंने नीट की तैयारी शुरू की।

उत्कृष्ट स्कूल की उपलब्धि : नीट में लगातार दूसरे साल 26, इससे पहले 23 बच्चाें ने पास की थी परीक्षा - नीट की परीक्षा में जिले के 40 बच्चे उत्तीर्ण हुए हैं। जिसमें 27 धार शहर के हैं। इनमें 26 शासकीय उत्कृष्ट स्कूल की हैं। एक छात्र शासकीय कन्या स्कूल क्रमांक 4 का है। प्राचार्य विजय कुमार मालवीय ने बताया पिछले साल भी 26 बच्चे उत्तीर्ण हुए थे। इससे पहले 2018 में 23 बच्चाें ने परीक्षा उत्तीर्ण की थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज ग्रह स्थितियां बेहतरीन बनी हुई है। मानसिक शांति रहेगी। आप अपने आत्मविश्वास और मनोबल के सहारे किसी विशेष लक्ष्य को प्राप्त करने में समर्थ रहेंगे। किसी प्रभावशाली व्यक्ति से मुलाकात भी आपकी ...

और पढ़ें