कांग्रेस जिलाध्यक्ष को जिलाबदर का नोटिस:जिलाध्यक्षबोले- षड्यंत्र पूर्वक की जा रही जिलाबदर की कार्रवाई

धार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पेशी के बाद बाहर निकलते हुए गौतम व वकील। - Dainik Bhaskar
पेशी के बाद बाहर निकलते हुए गौतम व वकील।

धार में कांग्रेस जिला अध्यक्ष बालमुकुंद सिंह गौतम को जिला दंडाधिकारी व कलेक्टर न्यायालय से गत दिनों जिला बदर करने की कार्रवाई को लेकर नोटिस जारी किया गया था। इसके बाद मंगलवार को जिला अध्यक्ष अपने अभिभाषक के साथ कोर्ट के समक्ष पेश हुए। जहां से अभिभाषक ने जिलाबदर को लेकर लगाए गए प्रकरणों की सूची मांगी व उनका जवाब देने के लिए समय मांगा है। ऐसे में जिला अध्यक्ष को मंगलवार को राहत मिली है, तथा तारीख आगे बढ़ा दी गई है। हालांकि अभी आगामी तारीख जिलाध्यक्ष को नहीं बताई गई है।

अभिभाषक सुहैल निसार ने जानकारी देते हुए बताया कि पक्षकार को जिलाबदर को लेकर नोटिस जारी किया गया था, जिसके बाद पक्ष रखते हुए समय मांगा गया है। जिसमें जिन प्रकरणों को जिला बदर के लिए शामिल किया गया है। उनकी सूची, साथ ही गवाह को क्रॉस करने के लिए समय तथा प्रकरणों का जवाब देने के लिए भी निर्धारित प्रक्रिया के तहत समय मांगा गया है।

जिसके बाद समय मिल गया है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में 2017 से लेकर अब तक बालमुकुंद सिंह गौतम के खिलाफ कोई प्रकरण दर्ज नहीं है। ऐसे में इस तरह की कार्रवाई का कोई औचित्य ही नहीं है। उन्होंने बताया कि हमें 16 प्रकरणों का विवरण दिया गया है। दरअसल ये क्राइम नंबर के आधार पर दिए गए हैं। जबकि वह केस नंबर के आधार पर देना चाहिए थे।

उन्होंने कहा कि जो प्रकरण थे, हमारे पास में उनकी नकल भी हमने प्रस्तुत की है। उन्होंने कहा कि सबसे पहले तो हमने नैसर्गिक न्याय के सिद्धांत के तहत सुनवाई का समय मांगा है। निसार ने बताया कि 16 प्रकरण चलना बताया जा रहे हैं। उनमें से 14 प्रकरण में गौतम बरी हो चुके हैं। एक मामला धारा 144 के उल्लंघन के तहत भारतीय दंड विधान की धारा 188 का चल रहा है जो कि राजनीतिक आंदोलन से संबंधित है।

इधर इस मामले में पूर्व विधायक व वर्तमान कांग्रेस जिलाध्यक्ष बालमुकुंद सिंह गौतम ने कहा कि राजनीतिक षड्यंत्र पूर्वक उनके खिलाफ भाजपा की सरकार द्वारा कार्रवाई की जा रही है। साथ ही प्रदेश के मंत्री व विधायक राजवर्धन सिंह दत्तीगांव के द्वारा यह सब-कुछ करवाया जा रहा है।